राजस्थान में होमगार्ड के सिर्फ 2500 पदों के लिए आए 3 लाख 51 हजार 941 आवेदन...

होमगार्ड के लिए योग्यता आठवीं पास है, लेकिन 12वीं, ग्रेज्युएट पास या अन्य डिप्लोमाधारी बेरोजगारों ने भी आवेदन किए हैं.

राजस्थान में होमगार्ड के सिर्फ 2500 पदों के लिए आए 3 लाख 51 हजार 941 आवेदन...
होमगार्ड महकमे में 2500 पदों पर नामांकन की तैयारी चल रही है.

जयपुर: राजस्थान में एक अदद नौकरी इंतजार में बेरोजगार युवाओं की भीड़ खड़ी है. आलम यह है कि एक पद के लिए सैकड़ों की तादाद में आवेदन आ रहे हैं. होमगार्ड स्वयंसेवक 2500 पदों के लिए साढ़े तीन लाख आवेदन आए हैं और इनका नामांकन पूरा होने में डेढ़ साल का समय लगने वाला है. इधर होमगार्ड निदेशालय ने भर्ती के लिए सरकार से 5 करोड़ 81 लाख रुपये का बजट मांगा है.

प्रदेश में होमगार्ड स्वयंसेवकों की स्वीकृत नफरी के 2500 रिक्त पदों को भरने के लिए भर्ती निकाली गई है. विभाग की ओर से अभ्यथियों से ऑनलाइन आवेदन मांगे गए. आवेदन के लिए शैक्षणिक योग्यता 8वीं पास रखी गई. आवेदन भी जिलों के अनुसार मांगे गए और बड़ी संख्या में युवाओं ने होमगार्ड नामांकन के लिए आवेदन किए हैं.

मुख्य बिंदु
- होमगार्ड के 2500 पदों के लिए 3 लाख 51 हजार 941 आवेदन आए हैं मतलब एक पद के लिए 140 अभ्यर्थियों ने दावेदारी की है.
- यह तो तब है, जब होमगार्ड की नौकरी सरकारी नहीं होकर महज वॉलियंटरी सर्विस की है.
-होममगार्ड महानिदेशालय ने विज्ञप्ति में स्पष्ट किया है कि होमगार्ड स्वयंसेवक सरकारी कर्मचारी नहीं है.
- होमगार्ड विभिन्न विभागों की मांग पर निश्चित मानदेय पर तैनात किया जाता है.
- इसके बावजूद इतनी बड़ी संख्या में आवेदन आना प्रदेश में बढ़ती बेरोजगारी का इशारा है.
- होमगार्ड के लिए योग्यता आठवीं पास है, लेकिन 12वीं, ग्रेज्युएट पास या अन्य डिप्लोमाधारी बेरोजगारों ने भी आवेदन किए हैं
- इधर महकमे में पहले से ही होमगार्ड नामांकित हैं, जिन्हें 12 महीने रोजगार नहीं मिल रहा है.

इधर होमगार्ड महकमे में 2500 पदों पर नामांकन की तैयारी चल रही है. होमगार्ड निदेशालय ने राज्य सरकार से भर्ती नामांकन के लिए 5 करोड़ 81 लाख रुपये का अतिरिक्त बजट प्रावधान मांगा है. मापदंडों के आधार आवेदन पत्रों की छंटनी का काम चल रहा है.

मुख्य बिंदु
- एडीजी होमगार्ड अमृत कलश ने 2 नवम्बर को गृह विभाग को पत्र लिखकर बजट मांगा है.
- निदेशालय ने होमगार्ड की शरीरिक मापतौल-दक्षता परीक्षा के लिए प्रति अभ्यर्थी 150 रुपये मांगे हैं.
- इसके अलावा पचास लाख रुपये कार्यालय खर्च के मांगे हैं.
- नामांकन के लिए आवेदन करने वाले 3 लाख 52 हजार अभ्यर्थियों की शारीरिक माप तोल-दक्षता परीक्षा सात केंद्रों पर होगी.
- प्रत्येक केंद्र पर हर रोज 700 अभ्यर्थियों की शारीरिक माप तौल दक्षता परीक्षा संभावित है
- ऐसे में यह परीक्षा 7 सेंटरों को मिलाकर 503 दिन चलने की संभावना है.
- परीक्षा के दौरान छाया पानी के इंतजाम और कोरोना बचाव के लिए आवश्यक व्यवस्थाओं के लिए भी बजट मांगा है.
- फिलहाल मामला गृह विभाग में विचाराधीन बताया जा रहा है.