राजस्थान में 9 अप्रैल को 2 बजे तक आए 47 नए कोरोना पॉजिटिव, कुल आंकड़ा पहुंचा '430'

प्रदेश में कोरोना वायरस का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है और पिछले 1 सप्ताह में मरीजों की संख्या काफी बढ़ गई है.

राजस्थान में 9 अप्रैल को 2 बजे तक आए 47 नए कोरोना पॉजिटिव, कुल आंकड़ा पहुंचा '430'
प्रदेश में कोरोना वायरस का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है.

जयपुर: राजस्थान में 9 अप्रैल को दोपहर 2 बजे तक कुल 430 कोरोना पॉजिटिव सामने आए थे. यहां पूरे राजस्थान से 47 नए केस कोरोना के आए हैं. जोधपुर जिले से कुल 3 पॉजिटिव केस सामने आए हैं. इनमें जोधपुर से एक डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव सामने आया है. नागौरी गेट क्षेत्र में 34 वर्षीय ये डॉक्टर हाउस टू हॉउस सर्वे में शामिल था. आज जयपुर से 11 पॉजिटिव केस सामने आए हैं. इनमें से 8 केस रामगंज इलाके से आए हैं. 

घाट गेट से एक केस अमृतपुरी क्षेत्र का और एक केस मुंबई से तबलीगी जमाती से जुड़ा है. जोधपुर में 76 वर्षीय कोरोना पॉजिटिव मरीज की मौत हो गई है. चार ईरान से लौटे यात्री जैसलमेर में पॉजिटिव पाए गए हैं. 

राजस्थान के 33 जिलों में से 24 जिलों में पॉजिटिव केस मिले हैं. वहीं, आज झालावाड़ से 7 केस सामने आए हैं. इन सभी सातों की ट्रेवल हिस्ट्री इंदौर की है. झुंझुनू जिले से आज 7 केस सामने आए हैं. इनमें से 3 तबलीगी जमाती के संपर्क में आए हुए बताए गए. इसके अलावा दो नवलगढ़ से तबलीगी जमाती, अन्य दो में से एक की ट्रेवल हिस्ट्री कतर की और दुबई की है.

वहीं, टोंक जिले से 7 पॉजिटिव केस और बांसवाड़ा से दो केस सामने आए हैं. जैसलमेर (पोखरण)  से 5 केस सामने आए हैं, जिनका पूर्व में पॉजिटिव के संपर्क में संक्रमित होना बताया गया है. वहीं, जोधपुर से भी एक केस सामने आया है. बाड़मेर जिले से एक पॉजिटिव केस सामने आया है. संक्रमित शख्स एक स्कूल का प्रधानाध्यापक है और वो हाल ही में रामगंज से लौटा था.

बता दें कि प्रदेश में कोरोना वायरस का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है और पिछले 1 सप्ताह में मरीजों की संख्या काफी बढ़ गई है. प्रदेश में कोरोना वायरस पॉजिटिव की संख्या जहां 430 पहुंच गई है तो वहीं अब प्रदेश में काफी सख्ती भी नजर आ रही है. राजधानी जयपुर के रामगंज के बाहर भी अब कोरोना ने अपने पैर पसारने शुरू कर दिए हैं. भट्टा बस्ती और खोनागोरियान में मामले सामने आए हैं, जिसके बाद चारदीवारी में सुरक्षा के बंदोबस्त और कड़े कर दिए गए हैं. अति आवश्यक सेवाओं के अलावा किसी भी व्यक्ति को अब चारदीवारी से बाहर नहीं निकलने दिया जा रहा है.