close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बारां में बाढ़ से अब तक 6 लोगों की मौत

बारां जिले में बाढ के कारण गांव कस्बे दरिया बन गए और लोगों का भारी नुकसान हुआ है. छीपाबडौद, छबडा, अंता, पलायथा सहित कई कस्बो में दुकानों में सात- सात फीट तक पानी भर गया है. 

बारां में बाढ़ से अब तक 6 लोगों की मौत
फाइल फोटो

राम मेहता, बारां: जिले में बरसात का दौर कम हो गया है लेकिन नदी नालों में उफान चल रहा है और लोग जान जोखिम में डालकर रास्ता पार करने से नहीं चुक रहे हैं. कई लोग पानी में बह चुकें है लेकिन फिर भी लोग बिना परवाह किए उफनती नदियों को पार कर रहें है लेकिन पुलिस और प्रशासन की अनदेखी भी दुघर्टनाओं को न्यौता दे रही है.

बारां जिले में पिछले दिनों हुई भारी बरसात ने जिले में काफी तबाही मचाई है. जिसमे हजारों हैक्टेयर के खेतों में खड़ी फसल पानी भरने के कारण खराब हो गई. जिससे किसानों के अरमानों पर पानी फिर गया है और अब कर्ज चुकाने और परिवार पालने की चिंता किसानों को सतानें लगी है. किसानों को उचित मुआवजा देने की मांग उठाने लगी है. 

जिले में सड़क बाढ के कारण पूरी तरह से उखड़ गई. कई पुलिया क्षतिग्रस्त हो गई. जिसके कारण अभी कई मार्ग बाधित हो गए हैं. आसमान से गिरी आफत ने सड़क मार्गों को बुरी तरह से प्रभावित कर दिया है और लोग सड़कों की मरम्मत का इंतजार कर रहे हैं. जिससे कि आवामन सुचारू हो सके और लोगों को राहत मिल सके. जिला कलेक्टर भी अधिकारीयों के साथ जिले का दौरा कर सड़कों की हालत देख चुके हैं और सार्वजनिक निर्माण विभाग को सड़कें दुरूस्त करने के निर्देश दे चुके हैं.

बारां जिले में बाढ के कारण गांव कस्बे दरिया बन गए और लोगों का भारी नुकसान हुआ है. छीपाबडौद, छबडा, अंता, पलायथा सहित कई कस्बो में दुकानों में सात- सात फीट तक पानी भर गया है. जिससे दुकानदारों का पूरा सामान खराब हो गया तो कई घरों का खाने पानी तक का सामान बह गया. बारां जिले में बाढ के कारण पिछले एक सप्ताह में भारी नुकसान के साथ मानव जीवन तक अस्त व्यस्त हो गया है. बाढ, एक सप्ताह में 6 लोगों के लिए काल बन कर आई और इनकी अकाल मौत हो गई. पुलिया पर बहनें और झरना स्थलों पर तेज बहाव में बाढ के कारण 6 लोगों की जान चली गई. 

बारां जिले में बाढ लोगों के लिए के लिए काल बनाकर आई. बाढ ने लोगों को तबाह कर दिया तो कई लोगों की जान छीन ली लेकिन जिम्मेदार सरकार कब पीड़ितों को राहत पहुंचाती है यह देखने वाली बात है.