अजमेर: थाना परिसर में हुई 7 कौऔं की मौत, वन विभाग को विसरा रिपोर्ट का इंतजार

आरपीएफ थाना परिसर में 7 मृत कौए मिलने के बाद थाना प्रभारी भाटी ने आनन-फानन में वन विभाग को सूचना दी. सूचना मिलने के बाद वन विभाग की टीम ने मौके पर पहुंची. 

अजमेर: थाना परिसर में हुई 7 कौऔं की मौत, वन विभाग को विसरा रिपोर्ट का इंतजार
विभागीय अधिकारी विसरा रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं.

ब्यावर: अज्ञात कारणो के चलते अजमेर में हो रही कौओं की मौत थमने का नाम नहीं ले रही है. धीरे-धीरे जिले के अन्य शहरों में भी कौऔं की मौत होने लगी है. इसी कड़ी में ब्यावर के रेलवे स्टेशन स्थित आरपीएफ थाना परिसर में लगे पेड़ के नीचे 7 मृत कौए मिलने से थाना परिसर मे हडकंप मच गया.
 
वहीं, आरपीएफ थाना परिसर में 7 मृत कौए मिलने के बाद थाना प्रभारी भाटी ने आनन-फानन में वन विभाग को सूचना दी. सूचना मिलने के बाद वन विभाग की टीम ने मौके पर पहुंची. जिसके बाद उन्होने उस जगह का मौका मुआयना किया. वहीं, बाद में टीम ने सभी मृत कौओं के शव को एकत्रित कर पुश चिकित्सालय ले गए, जहां डॉक्टर जावेद हुसैन ने कौओं का पोस्टमार्टम किया.

डॉक्टर जावेद ने बताया की वन विभाग के कर्मचारियों ने 7 मृत कौए के शव लेकर आए थे उनका पोस्टमार्टम करवाया गया है. डॉक्टर जावेद ने बताया की इन सभी का सैम्पल जांच के लिए भिजवाया जाएगा. उन्होनें बताया कि कौओं की मौत का कारण अभी स्पष्ट नहीं है. फॉरेन्सिक लैब से रिपोर्ट आने के बाद ही पता लग पाएगा की कौओं की मौत के पीछे क्या कारण है.

गौरतलब है कि राजस्थान की सांभर झील में हजारों प्रवासी पक्षियों की मौत के बाद पिछले तीन दिनों में अजमेर की आनासागर झील में कई मछलियां और कौवे मृत पाए गए. वन विभाग ने अजमेर की घोघरा नर्सरी में लगभग 30 कौवे दफन किए. विभागीय अधिकारी अब इनकी मौत के कारणों का पता लगाने के लिए भोपाल से आने वाली विसरा रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं.

अधिकारियों ने पुष्टि की कि आनासागर झील में और उसके आसपास पाए जाने वाले कौवे कमजोर और निष्क्रिय दिखाई देते हैं, इसलिए यह आशंका है कि मरने  वाले पक्षियों की संख्या बढ़ सकती है. वहीं, शुक्रवार को 19 कौवे मृत मिले और फिर रविवार को 11 अन्य भी मृत पाए गए. इसके अलावा शनिवार को झील में 100 से अधिक मछलियां मृत पाई गई थीं.