धौलपुर: ACB ने रिश्वत लेते हुए वनरक्षक को किया गिरफ्तार

शिकायतकर्ता से आरोपी ने अवैध चम्बल बजरी से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली छोड़ने के बदले में पीड़ित वीरेंद्र सिंह से 20 हजार की रिश्वत की मांग की थी.  

धौलपुर: ACB ने रिश्वत लेते हुए वनरक्षक को किया गिरफ्तार
इसे बुधवार को भरतपुर एसीबी कोर्ट के समक्ष पेश किया जाएगा.

धौलपुर: राजस्थान के धौलपुर जिले में एसीबी (ACB) की टीम ने वन विभाग के वनरक्षक कार्यालय पर कार्रवाई करते हुए 20 हजार की रिश्वत लेते हुए वनरक्षक को रंगे हाथों गिरफ्तार किया है. शिकायतकर्ता से आरोपी ने अवैध चम्बल बजरी से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली छोड़ने के बदले में पीड़ित वीरेंद्र सिंह से 20 हजार की रिश्वत की मांग की थी.

इसके बाद, मामले का भौतिक सत्यापन कराकर भरतपुर के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (ASP) महेश मीणा ने रिश्वतखोर वनरक्षक को दबोच लिया. आरोपी को हिरासत में लेकर एसीबी की टीम ने पूछताछ शुरू कर दी है. जिसे बुधवार को भरतपुर एसीबी कोर्ट के समक्ष पेश किया जाएगा.    

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक महेश मीणा ने बताया कि, परिवादी 25 वर्षीय वीरेंद्र सिंह निवासी झार पुरा थाना इलाका कौलारी का ट्रैक्टर ट्राली अवैध बजरी का परिवहन करते हुए, अक्टूबर 2019 में दिहोली थाना पुलिस ने पकड़ा था.

इसके बाद, दिहोली थाना पुलिस ने मुकदमा फारेस्ट एक्ट में दर्ज कर, अग्रिम कार्रवाई के लिए पत्रावली वन विभाग धौलपुर को सुपुर्द किया था. वन विभाग ने आरोपी पर 51 हजार की जुर्माना राशि लगाई थी. जिस राशि को परिवादी वीरेंद्र सिंह ने 4 जुलाई 2020 को डीडी के माध्यम से वन विभाग में जमा कराया था. लेकिन डीएफओ (DFO) कार्यालय का वन रक्षक आरोपी 29 वर्षीय अजय सिंह पुत्र हरिभान निवासी उमरारा ने परिवादी वीरेंद्र सिंह से ट्रैक्टर-ट्राली छोड़ने के बदले में 20 हजार रुपए रिश्वत की मांग कर रहा था.

आरोपी वन रक्षक पिछले कई महीने से पीड़ित को परेशान कर रिश्वत राशि के लिए दबाब बना रहा था. परिवादी वीरेंद्र सिंह ने प्रकरण की शिकायत एसीबी कार्यालय भरतपुर पर दर्ज कराई थी. मामले का एसीबी टीम ने जाल बिछाकर भौतिक सत्यापन कराया और मंगलवार को आरोपी वन रक्षक अजय सिंह ने परिवादी वीरेंद्र सिंह को रिश्वत की राशि लाने के लिए जाकी गांव बुलाया था.

परिवादी वीरेंद्र सिंह ने आरोपी वन रक्षक अजय सिंह को जैसे ही रिश्वत की राशि सुपुर्द की. तभी एसीबी की टीम ने वन रक्षक अजय सिंह को रंगे हाथों दबोच लिया. एसीबी की टीम ने आरोपी के कब्जे से रिश्वत की राशि बरामद कर ली. एएसपी मीणा ने बताया कि, घूसखोर वन रक्षक को गिरफ्तार कर पूछताछ शुरू कर दी है. जिसे बुधवार को भरतपुर एसीबी कर न्यायालय में पेश किया जाएगा.