close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में एसीबी ने सीनियर RAS को घूस लेते हुए किया गिरफ्तार

डीजी एसीबी डॉ आलोक त्रिपाठी ने बताया कि ACB मुख्यालय को सूचना मिली थी कि रावतभाटा ,चित्तौड़गढ़ में परिवादी जितेन्द्र टांक की माइंस को माइनिंग विभाग द्वारा करीब 8 करोड़ की पेनल्टी लगाई गई है

राजस्थान में एसीबी ने सीनियर RAS को घूस लेते हुए किया गिरफ्तार
ACB की टीम लगातार दलालों और RAS की रेकी कर रही थी.

आशुतोष शर्मा/जयपुर: राजस्थान ACB ने खान विभाग में चल रहे एक बड़े भ्रष्टाचार का खुलासा किया है. एसीबी ने सीनियर RAS डीडी कुमावत को 4 लाख रूपये की घूस लेते हुए रंगे हाथों जयपुर में ज्योति नगर स्थित उसके आवास से गिरफ्तार किया. बीडी कुमावत खान विभाग में जॉइंट सेक्रेटरी पद पर थे. कुमावत ने रिश्वत में 55 लाख रूपये की डिमांड की थी जो की माइंस से पूरी तरह स्टे हटाने की एवज में मांगी गई थी, लेकिन सौदा 5 लाख में तय हुआ. हालांकि ACB ने घूसखोरी के इस खेल को बेनकाब कर दिया.

डीजी एसीबी डॉ आलोक त्रिपाठी ने बताया कि ACB मुख्यालय को सूचना मिली थी कि रावतभाटा ,चित्तौड़गढ़ में परिवादी जितेन्द्र टांक की माइंस को माइनिंग विभाग द्वारा करीब 8 करोड़ की पेनल्टी लगाई गई है. इस दौरान परिवादी दलाल विकास डांगी के मार्फत सीनियर आरएस बीडी कुमावत के दलाल ओम सिंह संपर्क में आया. RAS कुमावत ने दलाल ओम सिंह के माध्यम से खान मालिक के सामने दो विकल्प रखे. पहला ऑप्शन 55 लाख रूपये देकर माइंस पर लगी साढ़े आठ करोड़ की पैनल्टी को पूरी तरह हटा दिया जाए और दूसरा ऑप्शन रखा गया पांच लाख रूपये की घूस दो और पेनल्टी पर स्टे दे दिया जाए.

आखिर सौदा तय हुआ कि घूस में 5 लाख रूपये माइंस विभाग के जॉइंट सेकेट्री सीनियर RAS बीडी कुमावत के पास पहुंचा दिए जायेंगे. लेकिन इन सबके बीच घूस के इस खेल की भनक एसीबी को लग चुकी थी. ACB की टीम लगातार दलालों और RAS की रेकी कर रही थी. मंगलवार देर रात आरएस बंशीधर कुमावत के घर पर जैसे ही रिश्वत का खेल शुरू हुआ. तभी एसीबी की टीम ने रेड मार दी और खान विभाग में चल रहे रिश्वत का खेल और उससे जुड़े चेहरे बेनकाब हो गए.
 
रिश्वत का पूरा खेल लाखों में चल रहा था. खान मालिक से कुल 7 लाख रूपये उसके दलाल ने लिए. दो लाख RAS के दलाल ओम सिंह ने रखे और एक लाख खान मालिक के दलाल विकास डांगी को दिए. इसके बाद 4 लाख रूपये आरएस बंशीधर कुमावत को दिए गए. यही नहीं रात को जब सौदा हो रहा था तो आरएस ने दलाल ओम सिंह को मुंह मीठा कराते हुए मिठाई भी खिलाई.

घूसखोरों तक पहुंचने के लिए ACB की टीम ने ठेले वाले का वेश भी रखा. फिलहाल एसीबी टीम बीड़ी कुमावत और दोनों दलालों के घर पर सर्च अभियान चला रखा है. शुरुआती तौर पर RAS बंशीधर कुमावत का दलाल ओम सिंह करोडपति निकला है. उसके घर से 7 करोड़ 73 लाख की संपत्ति के कागजात और ढाई लाख रूपये नकद मिले है.