उदयपुर में कोरोना 'विस्फोट' के बाद एक्शन में आए DM, उठाया ये कदम...

कलेक्टर देवड़ा ने कहा कि, यदि किसी गांव, शहर या मोहल्ले में कोरोना पॉजिटिव आ गया तो, हमें यह सुनिश्चित करना है कि, वायरस का संक्रमण उस गांव, शहर या मोहल्ले से बाहर न निकल पाए.

उदयपुर में कोरोना 'विस्फोट' के बाद एक्शन में आए DM, उठाया ये कदम...
उदयपुर में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है.

अविनाश जगनावत/उदयपुर: राजस्थान के उदयपुर में पिछले कुछ दिनों से लगातार कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है. वहीं, बुधवार को एक ही दिन में 79 कोरोना पॉजिटिव केस सामने आने के बाद, जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया. ऐसे में, अब प्रशासन ने जिले में बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए किए जा रहे अपने प्रयासों को, और तेज बनाने की तैयारी कर ली है.

इसी को लेकर जिला कलेक्टर चेतन देवड़ा ने गुरुवार को, जिले के समस्त ब्लॉक मुख्य चिकित्सा अधिकारियों की मैराथन बैठक ली. बैठक में उन्होंने साफ निर्देश दिए हैं कि, कोरोना से बचाव के लिए वे फिल्ड में प्रो-एक्टिव होकर कार्य करें. फिल्ड की छोटी-मोटी समस्याओं से घबराकर हमें इस बड़े व महत्त्वपूर्ण अभियान को छोड़ना नहीं है.

उन्होंने कहा कि, ब्लॉक स्तर पर कोविड सेंटर पूरी तरह से संसाधन युक्त रहे और आवश्यकता होने पर यह रेडी-टू-ऑपरेट हो. डीएम ने अधिकारियों को कहा कि, विभाग के ब्लॉक व ग्राम पंचायत स्तर पर मौजूद कार्मिक आम जनता से सीधे संपर्क में हैं. ऐसे में वे गांववासियों से लगातार संपर्क रखें और उन्हें कोरोना से बचाव के तरीकों के बारे में जानकारी देते रहे हैं.

 

 

उन्होंने कहा कि आम जनता को यह अवगत कराएं कि, उनकी जरा सी लापरवाही से इसका संक्रमण अचानक ही बढ़ जाएगा तो, इसको रोकना असंभव हो जाएगा. कलेक्टर ने इस संबंध में ग्रामीणों को जागरूक करने की आवश्यकता जताई और आईईसी करने के निर्देश दिए.

बैठक दौरान मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. दिनेश खराड़ी ने, ब्लॉकवार कोरोना बचाव के लिए अपनाई जा रही रणनीति और प्राप्त प्रकरणों पर की जा रही कार्यवाही के बारे में विस्तार से बताया. कलेक्टर ने भी इस दौरान समस्त ब्लॉक सीएमएचओ से व्यक्तिगत संवाद किया. इसमें उन्होंने ब्लॉक की स्थिति, समस्याओं और कोरोना बचाव के लिए अपनाए जा रहे तरीकों पर विस्तार से चर्चा की.

गांव, शहर व मोहल्ले से बाहर न निकले कोरोना
कलेक्टर देवड़ा ने कहा कि, यदि किसी गांव, शहर या मोहल्ले में कोरोना पॉजिटिव आ गया तो, हमें यह सुनिश्चित करना है कि, वायरस का संक्रमण उस गांव, शहर या मोहल्ले से बाहर न निकल पाए. उन्होंने इसके लिए संबंधित चिकित्साधिकारियों को स्थानीय परिस्थितियों को देखते हुए, इसके रोकने के उपाय सुनिश्चित करने के निर्देश दिए.

कोरोना वारियर्स भी सतर्क व सावधान रहें
बैठक में कलक्टर ने कोरोना वॉरियर्स के संक्रमित होने पर चिंता जताई. उन्होंने कहा कि, हर व्यक्ति पूरी तरह सतर्क और सावधान होकर कार्य करें और लोगों को इससे बचाने के साथ-साथ खुद को भी इससे बचाव के लिए आवश्यक सावधानियां बरतें.

बता दें कि, उदयपुर में अनलॉक-2 लागू होने के साथ ही कोरोना पॉजिटिव केस बढ़ने लगे हैं. जिले में अब तक 1254 कोरोना पॉजिटिव केस सामने आ गए हैं. इसमे से 954 संक्रमित पूर्ण रूप से स्वस्थ होकर हॉस्पिटल से डिस्चार्ज हो गए हैं. वहीं, अभी जिले में 280 एक्टिव केस हैं. जिनका शहर के विभिन्न हॉस्पिटल में उपचार जारी है.