गरीबों पर अत्याचार से पहले रणथम्भौर के चारों ओर हो रहे अतिक्रमण हटाए प्रशासन- बैंसला

भरतपुर (Bharatpur News) के वैर थाना क्षेत्र के गांव रायपुर में प्रशासन द्वारा वनभूमि से अतिक्रमण हटाने के मामले को लेकर शनिवार को गांव में सर्वजातीय महापंचायत का आयोजन हुआ.

गरीबों पर अत्याचार से पहले रणथम्भौर के चारों ओर हो रहे अतिक्रमण हटाए प्रशासन- बैंसला
विजय बैंसला

भरतपुर: राजस्थान के भरतपुर (Bharatpur News) के वैर थाना क्षेत्र के गांव रायपुर में प्रशासन द्वारा वनभूमि से अतिक्रमण हटाने के मामले को लेकर शनिवार को गांव में सर्वजातीय महापंचायत का आयोजन हुआ. वक्ताओं ने 17 जनवरी तक मांगे नहीं माने जाने पर आगामी 20 जनवरी को जयपुर-आगरा हाइवे स्थित मोलोनी के पास जाम लगाने का चेतावनी दी है. गुर्जर नेताओं ने प्रशासनिक अधिकारियों को जमकर खरीखोटी सुनाई. अध्यक्षता कैप्टन आरामसिंह ने की. महापंचायत में गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति (Gujjar Reservation Conflict Committee) के संयोजक विजय बैंसला, सांसद रंजीता कोली, डांग विकास बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष जवाहरसिंह बेढंम, पूर्व सांसद रामस्वरूप कोली ने भी संबोधित किया.

बैठक में मौजूद समाज के लोगों ने सहमति से निर्णय लिया कि उनकी तीन मांग जिसमें पुलिस में दर्ज मुकदमा वापस लेने, दोषी अधिकारियों को निलम्बित करने तथा वनभूमि पर रह रहे लोगों के पट्टे जारी की बात कही. इन मांगों को नहीं माने जाने पर 17 जनवरी को गांव रायपुर में ही तैयारी बैठक कर 20 जनवरी को मंत्री भजनल लाल जाटव के पैतृक गांव झालाटाला पर हाइवे स्थित मोलोनी  पर जाम लगाकर नेशनल हाइवे को जाम किया जाएगा.

सांसद रंजीता कोली ने कहा कि प्रशासन ने जिस तरह का रवेया अपनाया वह बहुत ही अव्यवहारिक है लोगों पर अत्याचार किया गया. इसके लिए उन्होंने सीएम को पत्र लिखा है वह यह अत्याचार सहन नहीं करेंगी. अपने लोगों के साथ हर लड़ाई लड़ने को तैयार है.

बैठक को संबोधित करते हुए विजय बैंसला ने कहा कि कलेक्टर व केवलादेव नेशनल पार्क का डीएफओ राष्ट्रीय उद्यान (घना) के चारों तरफ हो रहे अतिक्रमण को व सरकार रणथंबौर के टाइगर रिजर्व के 1 किमी के दायरे में हो रहे अवैध निर्माणों को 10 दिन में तोड़कर बताये हैं. उनको प्रशासन क्यों नहीं हटवा रहा है, जहां नियम विरूद्ध होटल भी संचालित हो रहे हैं. उनको तोड़कर दिखाएं. अगर तीनों मांगे नहीं मानी गई तो 20 जनवरी में मोलोनी में जाम तो लगकर ही रहेगा.

डांग विकास बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष बेढम ने कहा कि रायपुर में प्रशासन के लोगों ने जो अत्याचार किया है. उसका न्याय मिलना चाहिए. राज्यमंत्री भजन लाल जाटव पर निशाना साधते हुए कहा कि उनको महापंचायत में आने के लिए निमंत्रण दिया गया था, लेकिन महापंचायत में शामिल नहीं हुए. इस क्षेत्र की जनता ने ही उनको जीताकर सरकार में मंत्री बनाया है और जनता के दुख में जनता के साथ नहीं खड़े हुए है तो उनको मंत्री पद पर रहने का कोई अधिकार नहीं है.

महापंचायत में वक्ताओं ने नदबई विधायक जोगिन्दर अवाना का धन्यवाद दिया और कहा कि समाज उनका आभारी है जिनकी वजह से ना सिर्फ लोगों की जान बच गई आरोपियों के खिलाफ मामला भी दर्ज हुआ. भाजपा नेता बेढम ने कहा कि विधायक भले ही दूसरी पार्टी के हैं, लेकिन सूचना मिलने पर अपने क्षेत्र के किसान संवाद कार्यक्रम को छोड़कर समाज की खातिर गांव रायपुर आए. लोगोंं से पीड़ा जानी.

यह भी पढ़ें- JP Nadda के साथ Rajasthan BJP की खास बैठक, इन मुद्दों पर हुई चर्चा