झुंझुंन: सरकार ने फैसला लिया वापस, अब प्रशासन ही बनाएगा Pass

सरकार ने दो दिन पहले अनुमति पत्र और पास जारी करने करने के लिए पुलिस को ही अधिकृत किया था. लेकिन अब यह फैसला भी वापस ले लिया गया है.

झुंझुंन: सरकार ने फैसला लिया वापस, अब प्रशासन ही बनाएगा Pass
यह व्यवस्था पूरे प्रदेश में लागू होगी.

संदीप केड़िया/ झुंझुंन: राजस्थान के झुंझुनूं जिला कलेक्टर यूडी खान ने लॉकडाउन (Lockdown) में अनुमति पत्र और पास जारी करने को लेकर सख्ती कर दी है. उन्होंने सभी अधिकारियों को कहा है कि वह पूर्व में जारी किए गए पास की सूची एडीएम झुंझुनूं को उपलब्ध करवाएं. 

साथ ही, आगे से जो भी पास नए जारी करें या फिर रिन्यू करें, वह एडीएम की सहमति के बिना ना हो. उन्होंने कहा है कि कम से कम पास जारी करने की सोच रखें. आवश्यक सेवाओं में शामिल वाहनों और लोगों को पास की कोई जरूरत नहीं है.

वहीं, सरकार ने दो दिन पहले अनुमति पत्र और पास जारी करने करने के लिए पुलिस को ही अधिकृत किया था. लेकिन अब यह फैसला भी वापस ले लिया गया है. पूर्व की व्यवस्था को ही रखा है. यह व्यवस्था पूरे प्रदेश में लागू होगी. कलेक्टर यूडी खान ने कहा कि सरकार के स्तर पर इसे लेकर पुर्नविचार हुआ था. जिसके बाद पुलिस द्वारा पास जारी करने के आदेश वापिस ले लिए गए हैं.

कलेक्टर यूडी खान ने कहा कि यह हमारे लिए खुशी की बात है कि झुंझुनूं जिले में कोरोना पॉजीटिव के संक्रमण की चेन तोड़ दी गई है. अब केवल नवलगढ़ को छोड़ दें तो, जो चेन मंडावा और गुढ़ागौडज़ी में बनीं थी, वह टूट गई है. नवलगढ़ में कांटेक्ट पर्सन और परिजनों के सैंपल भेजे गए थे. जो सभी नगेटिव आ गए हैं, इसलिए लोग घरों में ही रहे और संक्रमण को बढ़ऩे से रोके.

वहीं, झुंझुनूं में अब रेहड़ी ठेले पर सब्जी बेचने वालों को भी पास जारी किया जाएगा. साथ ही उनका स्वास्थ्य परीक्षण होगा. दरअसल, पिछले दिनों बीजेपी नेताओं ने कलेक्टर से बातचीत की थी. अब कलेक्टर ने इस दिशा में काम करना शुरू कर दिया है कि रेहड़ी, ठेले, सब्जी बेचने वाले लोगों की ना केवल नियमित जांच हो, बल्कि वह कोरोना एडवाइजरी का भी अक्षरश: पालन करें. यह सुनिश्चित किया जाएगा.