close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अजमेर: कश्मीर मुद्दे पर बौखलाया पाकिस्तान दरगाह दीवान को दे रहा धमकियां, जानें पूरा मामला

दरगाह दीवान को भेजे गए इन वॉइस मैसेज में अजमेर स्थित दरगाह के खादिमो को भड़काने की भी कोशिश की जा रही है.

अजमेर: कश्मीर मुद्दे पर बौखलाया पाकिस्तान दरगाह दीवान को दे रहा धमकियां, जानें पूरा मामला
दरगाह के दीवान ने अपने संदेश में कश्मीर मामले पर भारत सरकार के कदम की सराहना की थी.

मानवीर सिंह/अजमेर: कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने और उसे केंद्र शासित प्रदेश घोषित किये जाने के भारत सरकार के निर्णय के खिलाफ पकिस्तान की बौखलाहट लगातार देखने को मिल रही है. ताजा मामला अजमेर स्थित सूफी संत ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह के दीवान जैनुअल ओबेदिन से जुड़ा है. जिन्हे अब वॉइस मैसेज के माध्यम से पाकिस्तानी लगातार अंजाम भुगतने की धमिकयां दे रहे है. दरगाह दीवान ने कश्मीर मामले में भारत सरकार के कदम की सराहना करते हुए पकिस्तान को अपनी हद में रहने की हिदायत दी थी.

लेकिन अब पकिस्तान को दरगाह दीवान की यह नसीहत इस हद तक अखरने लगी है कि पाकिस्तानी दरगाह दीवान को वॉइस मैसेज के माध्यम से लगातार धमकियां दे रहे है.  इन वॉइस मैसेज में एक तरफ जंहा दरगाह दीवान को लानत भेजी जा रही है. वहीं दूसरी तरफ उन्हें अंजाम भुगतने को तैयार रहने की बात भी कही जा रही है. बौखलाए पाकिस्तान द्वारा दरगाह दीवान को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ ही आरएसएस का एजेंट करार दिया जा रहा है. इन वौइस् मैसेज में पकिस्तान सरकार से मांग की जा रही है कि अब दरगाह दीवान को पकिस्तान का वीजा ना दिया जाए. पकिस्तान की इस बौखलाहट को इसी से समझा जा सकता है कि दरगाह दीवान को भेजे वॉइस मैसेज में पकिस्तान द्वारा कश्मीर पर कब्जा करने की धमकियां भी दी जा रही है. 

दरगाह दीवान को भेजे गए इन वॉइस मैसेज में अजमेर स्थित दरगाह के खादिमो को भड़काने की भी कोशिश की जा रही है. अजमेर दरगाह के खादिमो से दरगाह दीवान के खिलाफ कानूनी कार्यवाही के लिए उकसाया जा रहा है. साथ ही अमेरिका आने पर अंजाम भुगतने की धमकी को भी साफ़ टूर पर सूना जा सकता है. इस पूरे मामले में दरगाह दीवान जैनुअल ओबेदिन से भी बात करने की कोशिश की गयी लेकिन वो उपलब्ध नहीं हुए. 

अजमेर स्थित सूफी संत ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह वो बारगाह है जिसकी अकीदत में पूरी दुनिया के मुसलमान ही नहीं बल्कि हर मजहब के लोग सर झुकाते है.  अमन और शान्ति का पैगाम देने वाली इस दरगाह से एक शान्ति का पैगाम दरगाह के दीवान जैनुल ओबेदिन ने भी दिया था. जैनुअल ओबेदिन ने अपने संदेश में कश्मीर मामले पर भारत सरकार के कदम की सराहना करते हुए अनुच्छेद 370 की समाप्ति को जायज ठहराते हुए पकिस्तान को अपनी हद में रहने की नसीहत दी थी.