close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अजमेर: पुलिस कर्मियों से बदसलूकी के मामले में छात्रों का विरोध प्रदर्शन खत्म

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के जिला संयोजक शरदसिंह चैहान के नेतृत्व में जारी इस धरने को पांचवे दिन सीओ सिटी भंवर रणधीर सिंह व कोतवाल चैनाराम ने समझाईश कर खत्म करवा दिया. 

अजमेर: पुलिस कर्मियों से बदसलूकी के मामले में छात्रों का विरोध प्रदर्शन खत्म
धरना समाप्ति के दौरान एबीवीपी ने सीओ सिटी सिंह को एसपी के नाम एक ज्ञापन सौंपा.

भीलवाड़ा: शहर के प्रतापनगर थाना क्षेत्र में पांसल चैराहे के निकट बाइक का चालान काटने पर हेड कांस्टेबल और पुलिस कर्मियों से बदसलूकी के मामले में छात्रों द्वारा किया जा रहा विरोध प्रदर्शन खत्म हो गया. इस मामले में राजकार्य में बाधा पहुंचाने के आरोप में गिरफ्तार छात्र संगठन से जुड़े कार्यकर्ताओं को जेल भेज दिया गया था.जिसके विरोध में छात्रों ने धरना देना शुरू कर दिया था. 

छात्रों का यह धरना प्रदर्शन पिछले पांच दिनों से चल रहा था. वहीं पांचवे दिन सीओ सिटी और कोतवाल की समझाइश के बाद ठातेरों का प्रदर्शन खत्म हो गया. जानकारी के अनुसार हेड कांस्टेबल नवरतन दाधीच कुछ पुलिसकर्मियों के साथ शुक्रवार को पांसल चैराहे पर नाकाबंदी कर रहे थे. तभी पुर रोड की ओर से बाइक पर छात्र संघ अध्यक्ष शंकर लाल गुर्जर और उसके तीन साथी आए. लेकिन जब पुलिस ने उन्हें रोका तो वह तीनों चालान काटने पर वे सभी पुलिसकर्मियों से उलझ गए. 

वहीं इन छात्रों ने झड़प के दौरान नवरतन दाधीच की वर्दी फाड़ दी. अतिरक्ति जाप्ता बुलाकर आरोपियों को हिरासत में लेकर थाना ले जाया गया. वहां राजकार्य में बाधा पहुंचाने और मारपीट का मामला दर्ज किया. पांच जनों को मुकदमे में जबकि धरना. प्रदर्शन कर भीलवाड़ा बंद की चेतावनी देने पर दो जनों को शांति भंग के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. 

जबकि इस मामले में कोर्ट ने दो आरोपियों को जेल भेज दिया था, जो सभी अब जमानत पर रिहा है. पुलिस की इसी कार्यवाही के विरोध में संयुक्त रूप से छात्र संगठनों ने प्रदर्षन करते हुए धरने की शुरूआत की थी. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के जिला संयोजक शरदसिंह चैहान के नेतृत्व में जारी इस धरने को पांचवे दिन सीओ सिटी भंवर रणधीर सिंह व कोतवाल चैनाराम ने समझाईश कर खत्म करवा दिया. 

धरना समाप्ति के दौरान एबीवीपी ने सीओ सिटी सिंह को एसपी के नाम एक ज्ञापन सौंपा. जिसमें घटनास्थल पर लगे सीसीटीवी के साथ ही स्थानीय लोगों से पूछताछ कर निष्पक्ष जांच करने, पूर्व में भी नवरत्न दाधीच और मंगल सिंह द्वारा आमजन के खिलाफ दर्ज कराये गये झूठे मुकदमों की जांच करने की मांग की. अन्य कार्यकर्ताओं पर कार्यवाही नहीं की जाए और पीड़ित रवि दमामी द्वारा दी गई रिपोर्ट पर कार्यवाही करने की मांग की गई.