अजमेर: सड़क हादसों लेकर यूनुस खान ने गहलोत सरकार पर बोला हमला, कहा...

नागौर जिले में पिछले लगभग 1 माह के समय की बात की जाए तो यहां 40 हादसों ने 50 लोगों की जान ले ली.

अजमेर: सड़क हादसों लेकर यूनुस खान ने गहलोत सरकार पर बोला हमला, कहा...
पूर्व परिवहन मंत्री यूनुस खान डीडवाना में एक दिवसीय दौरे पर थे.

हनुमान तंवर/डीडवाना: सड़क दुर्घटनाएं पूरे देश के लिए चिंता का विषय बन गया है. इसी को लेकर राजस्थान के पूर्व परिवहन मंत्री यूनुस खान ने सरकार की कार्यशैली पर सवालिया निशान लगाया है. इस मामले को लेकर पूर्व मंत्री ने कहा कि राजस्थान सरकार किसी की भी हो सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए निरंतर और लगातार प्रयास होते रहने चाहिए.

बता दें कि, पूर्व परिवहन मंत्री यूनुस खान डीडवाना में एक दिवसीय दौरे पर थे. प्रदेश और खासकर बात की जाए नागौर जिले की तो इन दिनों हादसे रुकने का नाम नहीं ले रहै है. नागौर जिले में पिछले लगभग 1 माह के समय की बात की जाए तो यहां 40 हादसों ने 50 लोगों की जान ले ली.

जहां, जिले में पिछले एक महीने के दौरान तकरीबन 40 हादसे हुए हैं जिनमें 49 लोग अपनी जान गंवाई वहीं, केवल नवम्बर माह के अंतिम सप्ताह में हुए हादसों में 2 दर्जन से ज्यादा लोगो को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा.

इसी मुद्दे पर पूर्व परिवहन मंत्री यूनुस खान ने यहां मीडिया से बात करते हुए कहा कि दुर्भाग्य की बात है कि सरकार बदलने के बाद लोग जो भी मंत्रीगण बनते हैं वो इन चीजों को दलों में या राजनीति में ले जाकर के ऐसे अभियानों को बंद कर देते हैं. यूनुस खान सीधे तौर पर राज्य सरकार द्वारा केंद्र सरकार द्वारा बनाये गए नए परिवहन कानून को लागू नहीं करने की तरफ इशारा कर रहे थे. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने जब मोटर व्हीकल एक्ट में अमेंडमेंट किया उसको वर्तमान सरकार ने लागू नहीं किया. खान ने कहा कि मैं माननीय मुख्यमंत्री जी और मंत्री जी से अपील करूंगा कि इसमें वो राजनीति नहीं करें.

यूनुस खान डीडवाना में हाल ही में हुए एक हादसे में चार युवकों की मौत के बाद उनके परिजनों से मिलने डीडवाना पहुंचे थे. इस दौरान उन्होंने कहा कि साढ़े दस हजार मौतें हर साल प्रदेश में और पूरे देश मे एक लाख 55 हजार मौते होती हैं, जो चिंता का विषय है. साथ ही उनका कहना था कि हमने अमेंडमेंट किये और रोड़ सेफ्टी के लिए जो काम किए उनको रोक देना न्यायोचित बात नहीं है. गौरतलब है कि पूर्व मंत्री उस परिवहन मंत्रियों की उस कमेटी के अध्यक्ष थे जिनकी सलाह पर ही मोटर व्हीकल एक्ट को सख्त बनाया गया था.

राज्य सरकार द्वारा नए मोटर व्हीकल एक्ट में खामी बताकर एक्ट लागू नहीं करने की बात पर खान ने कहा कि उन्होंने एक्ट को पढ़ा ही नहीं उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि दुर्घटनाओं को रोकने के लिए भी सरकार राजनीति ढूंढ रही है. दरअसल, पूर्व मंत्री इसलिए भी व्यथित थे कि उनके द्वारा लिए गए कई फैसलों पर सरकार बदलते ही रोक लगा दी गई. जिसमें ऑटोमेटेड ड्राइविंग ट्रेक और हिऐ सिक्युरिटी नम्बर प्लेट जैसे निर्णय भी शामिल है.