PM मोदी जा रहे हैं झुंझनूं, भव्‍य हवेलियों पर खूबसूरत नक्‍काशी वाला है यह जिला

कहा जाता है कि महाराव शार्दूल सिंह ने झुंझनूं के अंतिम नवाब रोहिल्‍ला खान 'रासलीला' को हराकर इसे जीता था. शेखावट क्षेत्र के चारणों की रचनाओं में इसके बारे में जिक्र मिलता है.   

PM मोदी जा रहे हैं झुंझनूं, भव्‍य हवेलियों पर खूबसूरत नक्‍काशी वाला है यह जिला
जब से पीएम मोदी ने 'बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ' अभियान की शुरुआत की है, उसके बाद से झुंझनूं के लिंगानुपात में अभूतपूर्व सुधार हुआ है.(फाइल फोटो)

पीएम नरेंद्र मोदी गुरुवार को झुझनूं जा रहे हैं. उनकी इस यात्रा के साथ ही यह जिला राष्‍ट्रीय सुर्खियों का विषय बन गया है. पीएम नरेंद्र मोदी झुझनूं इसलिए जा रहे हैं क्‍योंकि बेटी बढ़ाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान के बाद इस जिले के लिंगानुपात में अभूतपूर्व सुधार आया है. इस उपलब्धि के साथ यह जिला देश के नक्‍शे पर नया मुकाम हासिल करने में कामयाब रहा है. उल्‍लेखनीय है कि पीएम नरेंद्र मोदी ने ही 22 जनवरी, 2015 को इस अभियान की शुरुआत की थी. वर्ष 2011 में इस जिले का लिंगानुपात 1000 पुरुषों पर 837 महिलाओं का था. अब यह लिंगानुपात बढ़कर 955 हो गया है. ऐसे में चर्चित हो रहे झुंझनूं के बारे में जानें अहम बातें:

1. झुझनूं भव्‍य हवेलियों पर खूबसूरत चित्रकारी के कारण प्रसिद्ध है. यह जयपुर से 180 किमी दूर शेखावटी क्षेत्र का हिस्‍सा है.

2. कहा जाता है कि महाराव शार्दूल सिंह ने झुंझनूं के अंतिम नवाब रोहिल्‍ला खान 'रासलीला' को हराकर इसे जीता था. शेखावट क्षेत्र के चारणों की रचनाओं में इसके बारे में जिक्र मिलता है.   

महिला दिवस पर PM नरेंद्र मोदी आखिर झुंझुनूं क्‍यों जा रहे हैं?

3. यहां की प्रसिद्ध इमारत खेतड़ी महल है, जिसे हवा महल भी कहते हैं. इसको जयपुर के हवा महल से प्रेरित बताया जाता है. यहां का रानी सती मंदिर भी काफी प्रसिद्ध है.

4. यहां की साक्षरता दर 73.58 प्रतिशत है और 2011 के अनुसार आबादी तकरीबन सवा लाख है.

महिला दिवस: झुंझुनूं में बेटियों का दम बताएंगे पीएम मोदी, प्रियंका चोपड़ा भी रहेंगी मौजूद

5. यह उत्‍तरी-पश्चिम रेलवे का हिस्‍सा है और ब्रॉडग्रेज लाइन के माध्‍यम से सीकर, रेवाड़ी और दिल्‍ली से जुड़ा है.