Rajasthan: 2 साल से अटकी है पुलिस कांस्टेबलों की ज्वाइनिंग, अभ्यर्थियों ने सरकार से लगाई गुहार

Tonk News: राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती 2018 में चयनित पदों में 1600 पद अब भी खाली हैं. सरकार ने 13 हजार पदों के लिए भर्ती निकाली थी.

Rajasthan: 2 साल से अटकी है पुलिस कांस्टेबलों की ज्वाइनिंग, अभ्यर्थियों ने सरकार से लगाई गुहार
2 साल से अटकी है पुलिस कांस्टेबलों कप ज्वाइनिंग. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Tonk: राजस्थान में कोरोना महामारी के कारण हाहाकार मचा हुआ है. सरकारी गाइडलाइन के पालन के लिए पुलिस मुस्तैदी से सड़कों पर तैनात है. लेकिन पुलिस कर्मियों की कमी के कारण जिस सख्ती से पालन होनी चाहिए वो नहीं हो रहा है. अगर राजस्थान पुलिस में कुछ पुलिस कर्मियों की समय पर भर्ती हो जाती तो इसका पालन बेहतर ढ़ग से किया जा सकता था.

दरअसल, कोरोना के इस संकट काल में पुलिस कर्मियों की जरुरत है. लेकिन फिर भी 1600 पुलिस कांस्टेबल को ज्वाइनिंग नहीं दी जा रही है. अभ्यर्थी पिछले दो साल से इंतजार कर रहे हैं. जानकारी के अनुसार, राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती 2018 में चयनित पदों में 1600 पद अब भी खाली हैं. सरकार ने 13 हजार पदों के लिए भर्ती निकाली थी. भर्ती प्रकिया पूरी करने के बाद भी कई जिलों के पद खाली रह गए थे. समय बीतने के साथ अभ्यर्थी लगातार जनप्रतिनिधियों से मिलकर सरकार से ज्वाइनिंग देने की मांग कर रहे है.

ये भी पढ़ें-Corona की वजह से करीब 35 हजार पदों पर भर्ती का इंतजार हुआ लंबा, जानिए कौनसी है ये भर्ती

 

टोंक जिले के अभ्यर्थी विधायक हरीश मीना से मिलकर ज्वाइनिंग की मांग कर चुके हैं. अब अभ्यर्थी कोरोना काल में सरकार के साथ मिलकर काम भी करना चाहते है और सीएम सहायता कोष में एक साल के वेतन की पेशकश कर रहे है. वहीं,  सरकार के सामने कोरोना और अभ्यर्थियों के सामने रोजगार का संकट है. कोरोना के अलावा सरकार के पास कुछ करने को समय नहीं है.

इधर, लॉकडाउन में बेरोजगार अभ्यर्थी भी क्या करें. पिछले दो साल से नेताओं से मिलकर अपनी बात रख चुके हैं. सोशल मीडिया के माध्यम से अपनी मांग को ट्विटर पर ट्रेड भी करवा चुके हैं. लेकिन इन अभ्यर्थियों की कहीं सुनवाई नहीं हो रही है.

ये भी पढ़ें-राजस्थान में कोविड मरीजों को भर्ती करने से मना नहीं कर सकेंगे अस्पताल, फ्री में मिलेगा एबुंलेंस

 

(इनपुट-पुरूषोत्तम जोशी)