Tonk : प्रशासन की भारी लापरवाही, गांवों में बढ़ रहे संक्रमित रोगी

महिलाओं सहित लोगों की मौत हो रही है, लेकिन इन गांवों में न तो बैरिकेडिंग की गई है न ही इन्हें कंटेनमेंट जोन (Containment Zone) घोषित किया गया है.

Tonk : प्रशासन की भारी लापरवाही, गांवों में बढ़ रहे संक्रमित रोगी
गांवों में न तो बैरिकेडिंग की गई है न ही इन्हें कंटेनमेंट जोन (Containment Zone) घोषित किया गया है.

Tonk : राजस्थान के टोंक जिला कलेक्टर चिनमयी गोपाल से लेकर जनप्रतिनिधि भले ही जिले में फैल रहे कोरोना संक्रमण को लेकर गम्भीर होने का दावा कर रहे हैं, लेकिन हकीकत यह है कि देवली उपखंड क्षेत्र के ग्रामीण अंचल में लगातार कोरोना का संक्रमण (Coronavirus) फैल रहा है. इससे महिलाओं सहित लोगों की मौत हो रही है, लेकिन इन गांवों में न तो बैरिकेडिंग की गई है न ही इन्हें कंटेनमेंट जोन (Containment Zone) घोषित किया गया है.

ये भी पढ़ें-निजी अस्पतालों में लगेंगे सरकारी हॉस्पिटल के बचे वेंटिलेटर-ऑक्सीजन, फ्री में मिलेगी सुविधा

जिला कलेक्टर चिन्मयी गोपाल ने जिले (Tonk News) के सभी गांवों में डोर टू डोर सर्वे के लिए आदेश जारी कर रखे हैं और दवाओं के भी पुख्ता इंतजामात कर रखे हैं, लेकिन देवली उपखंड के पनवाड़ पंचायत के बास लक्ष्मणा गांव और देवी खेडा पंचायत के रावता माताजी गांव में करीब दर्जन भर लोग कोरोना से काल का ग्रास बन गए हैं. वहां पर फिलहाल किसी भी तरह की सर्वे टीम भी नही पहुंची है और न ही लोग ही इसके प्रति गंभीर हैं. 

गांवों में न कंटेनमेंट जोन बनाया गया है और न ही जीरो मोबिलिटी, बल्कि किसी तरह की आवाजाही पर भी कोई रोक नहीं है, जिसके चलते लोग कोरोना संक्रमित हो रहे हैं और आये दिन लोगों की मौत हो रही है. 

रिपोर्ट : पुरूषोत्तम जोशी

ये भी पढ़ें-राजस्थान में कोविड मरीजों को भर्ती करने से मना नहीं कर सकेंगे अस्पताल, फ्री में मिलेगा एबुंलेंस