close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

केन्द्रीय मंत्री ने स्वीकारा, 'राजस्थान में पार्टी के अंदर संवादहीनता थी'

  जावड़ेकर का दावा है कि पार्टी के अंदर यह मात्र एक ‘संवादहीनता’ थी जिसे दूर कर लिया गया है और पूरी पार्टी इकाई मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के पीछे खड़ी है.

केन्द्रीय मंत्री ने स्वीकारा, 'राजस्थान में पार्टी के अंदर संवादहीनता थी'
केन्द्रीय मंत्री और राजस्थान चुनाव प्रभारी प्रकाश जावड़ेकर ने सचिन पायलट के आरोपों का दिया जवाब (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: राजस्थान में विधानसभा चुनाव के पहले भाजपा के चुनाव प्रभारी प्रकाश जावड़ेकर ने मंगलवार को कहा कि राजस्थान में पार्टी नेताओं के बीच कोई मतभेद नहीं हैं. जावड़ेकर का मानना है कि पार्टी के अंदर यह मात्र एक ‘संवादहीनता’ थी जिसे दूर कर लिया गया है और पूरी पार्टी इकाई मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के पीछे खड़ी है.

वरिष्ठ केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने यह भी कहा कि, 'आगामी विधानसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का करिश्मा और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की राजनीतिक रणनीति पार्टी की सबसे बड़ी ताकत है. इसी के दम पर भाजपा राज्य में जीत हासिल करेगी.' राजस्थान में एक हीं चरण में सात दिसम्बर को विधानसभा चुनाव होना है. वहीं राज्य में मतगणना सभी 200 सीटों के लिए 11 दिसम्बर को होगी. 

पार्टी में किसी मतभेद से किया इनकार
कांग्रेस की इस आलोचना के बारे में पूछे जाने पर कि भाजपा प्रदेश इकाई के बीच मतभेद हैं, जावड़ेकर ने पीटीआई से एक साक्षात्कार में कहा कि ‘ राज्य में सब कुछ ठीक है.’  उन्होंने कहा, ‘पार्टी में आपस में कोई मतभेद नहीं है. आपस में मात्र एक ‘‘संवादहीनता’’ थी जिसे दूर कर लिया गया है. पूरी प्रदेश इकाई भाजपा की जीत सुनिश्चित करने के लिए ओवरटाइम (निश्चित समय से अधिक) काम कर रही है और एकजुट होकर वसुंधराजी के साथ खड़ी है, जो राज्य में सबसे लोकप्रिय नेता हैं.’ 

सचिन पायलट ने लगाए थें आरोप
जावड़ेकर का यह बयान कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट के इस बयान के बाद आयी है कि राजे और शाह के बीच मतभेद हैं और दोनों शायद ही कभी मंच साझा करते हैं. पायलट ने हाल में कहा था, ‘जब भी अमित शाह आते हैं, वसुंधरा राजे कहीं और चली जाती हैं. वे दोनो एक ही जिले में मौजूद रहने को तैयार नहीं होते'.

मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार पर भाजपा एकमत, कांग्रेस में गुटबाजी 
जावड़ेकर ने साथ ही इस बात पर जोर दिया कि भाजपा ने कांग्रेस की तुलना में एक कदम आगे बढ़ कर बढ़त हासिल की है. सत्ताधारी पार्टी जहां अपने मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार को लेकर नेता किसी भी दुविधा में नही है और हमारी नेता समाज के सभी वर्गों को स्वीकार है, वहीं कांग्रेस इस मुद्दे पर अब तक बंटी हुई है.’ 

जावड़ेकर को है भरोसा इस बार बदलेगी राजस्थान में सत्ता परिवर्तन की परंपरा
राजस्थान में सत्ताविरोधी लहर और प्रत्येक पांच वर्ष पर सत्ता परिवर्तन की परंपरा के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि,'पार्टी ने मोदी..शाह के नेतृत्व में नये मुकाम हासिल किये हैं और सभी परंपराएं तोड़ी हैं. उन्होंने कहा, ‘2014 से भाजपा विस्तार कर रही है जबकि कांग्रेस सिकुड़ रही है. विपक्षी पार्टी अप्रासंगिक बन गई है और मोदी के करिश्माई नेतृत्व और उनकी विश्वसनीयता के चलते पार्टी का पूरा वोट आधार हमारी ओर आ गया है.’ 

विकास का प्रतीक रही है राजे सरकार, किया हर वायदे को पूरा 
उन्होंने कहा कि पार्टी राज्य में विकास की एक प्रतीक रही है. उन्होंने राजे सरकार के कार्यकाल को राजस्थान के इतिहास में एक ‘‘स्वर्ण काल’’ बताया. साथ हीं राज्य सरकार की ओर से शुरू की गई विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का उल्लेख  भी किया जिसमें स्वास्थ्य बीमा योजना, भामाशाह योजना शामिल है. जावड़ेकर ने कहा कि राज्य में हमेशा ही पानी की कमी रही है, लेकिन भाजपा सरकार ने यह सुनिश्वित किया कि पानी प्रत्येक गांव और प्रत्येक खेत तक पहुंचे.

(इनपुट भाषा से)