पक्षियों की मौत को लेकर Tonk पशुपालन विभाग Active, सर्वे में जुटी 8 टीमें

देश के राजस्थान सहित कई राज्यों में फैले बर्ड फ्लू के प्रकोप ने प्रशासन से लेकर राज्य सरकार की चिंताएं बढ़ा रखी हैं. 

पक्षियों की मौत को लेकर Tonk पशुपालन विभाग Active, सर्वे में जुटी 8 टीमें
प्रतीकात्मक तस्वीर.

पुरुषोत्तम जोशी, टोंक: जिले में लगातार बढ़ती पक्षियों की मौत के बाद एक ओर जहां वन विभाग (Forest department) सुस्ती दिखा रहा है, वहीं, दूसरी ओर पशुपालन विभाग (Animal Husbandry Department) गांव से लेकर शहर तक पूरी तरह से एक्टिव नजर आ रहा है. विभाग की जिलेभर में 8 टीमें सर्वे में जुटी हैं. जलाशय के आसपास से लेकर घनों जंगलों में मृत पक्षियों की तलाश में जुटे हैं.

यह भी पढ़ें- Bird Flu के बाद अब पक्षियों के लिए एक और बड़ा खतरा, इलाज के लिए बनाई जा रही योजना

देश के राजस्थान (Rajasthan) सहित कई राज्यों में फैले बर्ड फ्लू (Bird flu) के प्रकोप ने प्रशासन से लेकर राज्य सरकार (State Government) की चिंताएं बढ़ा रखी हैं. ऐसे में टोंक जिले में बीते तीन दिनों में दर्जनभर से ज्यादा कौए और आधा दर्जन मोरों की मौत के साथ एक कबूतर भी मृत मिल चुका है, जिनके सैम्पल भोपाल लैबोरेटरी भिजवाएं जा चुके हैं. जिला बर्ड फ्लू नियंत्रण अधिकारी डाक्टर सोनल ठाकुर की मानें तो आज जिलेभर में आठ टीमों के करीब 490 लोगों ने तालाब, धार्मिक स्थल, सार्वजनिक स्थल, गार्डन, वन क्षेत्र, स्कूल मैदान आदि इलाकों में जाकर सर्वे किया, जिसमें एक भी पक्षी मृत नहीं मिला है. 

यह भी पढ़ें- Rajasthan में कौओं के बाद अब मोरों की मौत, Bird Flu की आशंका

 

जांच रिपोर्ट आने के बाद ही होगी बर्ड फ्लू की पुष्टि 
माना जा रहा है कि तापमान में भारी गिरावट और कड़ाके की सर्दी के चलते कुछ पक्षियों की मौत हुई है लेकिन अधिकारिक तौर पर भोपाल भेजे गए सैम्पलों की जांच रिपोर्ट आने के बाद ही बर्ड फ्लू की पुष्टि हो सकती है. वहीं, बर्ड फ्लू की सम्भावनाओं को देखते हुए मृत मिले पक्षियों को पशुपालन विभाग के चिकित्सकों द्वारा सरकार की डाइड लाइन किया अनुसार निस्तारण किया है. डॉक्टर सोनल ने बताया कि चिकित्सा विभाग की ओर से पीपीई कीट, दस्ताने और सभी आवश्यक मेडिकल सामग्री उनको मिल चुकी है, जिन्हें कार्मिकों को वितरित भी किया जा चुका है.

जानिए कहां कितने मृत मिले पक्षी
आधिकारिक सूचना के अनुसार, टोंक क्षेत्र में 2 कौए, गांधी पार्क में 3 कौए, नेहरू पार्क और एक कौआ घास पंचायत में तथा दूनी क्षेत्र के विजयगढ़ में 4 कौए, तथा देवली और उनियारा क्षेत्र में एक-एक कौए की सूचना मिली है. कुल 12 कोवों के मृत होने की सूचना प्राप्त हुई. पशुपालन विभाग सम्बन्धित क्षेत्र में आवश्यक कार्रवाई की गई और वैज्ञानिक विधि से निस्तारण किया गया. 

अधिकारियों ने बताया कि रोग की पुष्टि के लिए भोपाल लेब में सैंपल भेजे गए, जांच रिपोर्ट अभी नहीं आई है और महकमे के अधिकारी रिपोर्ट का इंतजार कर रहे. सम्भावना जताई जा रही है कि अगले एक दो दिन में सैम्पलों की रिपोर्ट मिलेगी, जिसके बाद पशुपालन, चिकित्सा और वन विभाग संयुक्त रूप से बड़ा अभियान चला कर इससे निजात हासिल करने का प्रयास करेगा.