शहीद औरंगजेब के परिवार से मिले आर्मी चीफ बिपिन रावत

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने आज शहीद औरंगजेब के घर जाकर उनके परिजनों से मुलाकात की.

शहीद औरंगजेब के परिवार से मिले आर्मी चीफ बिपिन रावत
सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत (फाइल फोटो)

पुलवामा: सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत  ने शहीद जवान औरंगजेब के परिजनों से मुलाकात की. आर्मी चीफ आज (गुरुवार) को करीब 12 बजे जम्मू-कश्मीर के पुंछ स्थित औरंगजेब के घर पहुंचे. उन्होंने औरंगजेब के माता-पिता से बातचीत की. आपको बता दें कि बीते गुरुवार को ईद मनाने घर जा रहे निहत्थे सेना के जवान को आतंकियों ने पुलवामा के कालम्पोरा से अगवा कर लिया था और उसके बाद गोली मारकर उनकी हत्या कर दी. 

शहीद जवान औरंगजेब को शनिवार को पुंछ स्थित उनके गांव सलानी में सुपुर्द-ए-खाक किया गया. उन्हें सैन्‍य सम्‍मान के साथ अंतिम विदाई दी गई. शहीद जवान के अंतिम दर्शन के लिए हजारों लोगों की भीड़ उमड़ी थी. हर कोई गमजदा था. अंतिम दर्शन के दौरान शहीद जवान के सम्‍मान में 'शहीद औरंगजेब अमर रहें' के नारे लगे. देश की खातिर औरंगजेब के सर्वोच्‍च बलिदान के लिए सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत और शीर्ष सैन्‍य अधिकारियों ने उन्हें सैल्‍यूट किया साथ ही उनके परिवार के साथ संवेदना व्‍यक्‍त की.
यह भी पढ़ें: शहीद औरंगजेब के छोटे भाई ने दिखाया बुलंद हौसला, बोला- मैं भी सेना में भर्ती होऊंगा
चाचा को भी आतंकियों ने बनाया था निशाना
आपको बता दें कि सिर्फ औरंगजेब ही नहीं उनके चाचा भी देश के लिए अपनी जान कुर्बान कर चुके हैं. औरंगजेब के चाचा को 2004 में आतंकवादियों ने मार डाला था. शहीद जवान के पिता भी सेना से रिटायर्ड हुए हैं. औरंगजेब के 5 भाई हैं जिनमें से एक भारतीय सेना में है जबकि चार पढ़ाई कर रहे हैं. औरंगजेब के सबसे छोटे भाई मोहम्मद असन ने भी सेना में जाने की इच्छा जताई है. उनका कहना है कि वो सेना मे भर्ती हो कर भाई का बदला लेंगे और कश्मीर में चुन-चुन कर आतंकवादियों को मारेंगे.

यह भी पढ़ें: शहीद औरंगजेब के पिता ने मोदी सरकार को दिया 72 घंटे का अल्टीमेटम
शुक्रवार को औरंगजेब के पिता ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि आतंकवादियों ने मेरे बेटे को अगवा कर लिया. कश्मीर से आतंकियों का 2003 से सफाया नहीं हो सका. जालिमों ने मेरे बेटे को नहीं आने दिया. उन्होंने कहा कि 72 घंटे में अगर सरकार ने कोई ठोस कदम नहीं उठाया तो मैं खुद बदला लूंगा.