सिरोही: वन्य प्राणियों का आबादी क्षेत्रों में बढ़ा आवागमन, दहशत में लोग

राजस्थान के कश्मीर कहे जाने वाले हिल स्टेशन माउंट आबू में पिछले वर्षों में जंगली जानवरों का आवागमन काफी बढ़ गया है

सिरोही: वन्य प्राणियों का आबादी क्षेत्रों में बढ़ा आवागमन, दहशत में लोग
होटल के किचन में घुसकर भालू दूध पी गया

सिरोही: राजस्थान के कश्मीर कहे जाने वाले हिल स्टेशन माउंट आबू में पिछले वर्षों में जंगली जानवरों का आवागमन काफी बढ़ गया है. यहां पर आए दिन आबादी क्षेत्रों में जंगली जानवर दिखाई देते हैं. कभी ज़हरीले सांप निकल आते हैं, तो कभी मगरमच्छ. इतना ही नहीं साल 2019 में वन्य प्राणी भालूओं का आवागमन मुख्य मार्गों के अलावा होटल परिसरों तक बढ़ गया. एक मामला तो ऐसा भी सामने आया जब भालू, होटल के किचन में घुसकर दूध पी गया और शक्कर सहित अन्य खाने पीने की चीजों तक को चट कर गया.

वन विभाग के आंकड़ों की माने तो अनुमानित रूप में माउंट आबू वन्यजीव सेन्चुरी में वन्य जीवों की खासी बढ़ोतरी हो रही है. माउंट आबू में भालुओं का कुनबा बीते वर्षों में बढ़ा है. उनकी संख्या माउंट आबू वन्यजीव सेन्चुरी में अनुमानित रूप में 350 से 400 के मध्य की हो चुकी है. वहीं पैन्थर लेपर्ड की अनुमानित संख्या 100 से 150 तक हो गयी है. सांप और रेंगने वाले जीवों का सही-सही अनुमान लगाना सम्भव नहीं है.

जानवरों के मुख्य आबादी क्षेत्रों और आवासीय परिसरों के भीतर तक आ जाने से अब स्थानीय लोगों की समस्या बढ़ गई है. स्थानीय लोग इससे भयभीत भी हैं. 

उनका मानना है कि अगर यही क्रम निरंतर बना रहा तो कहीं उनके आवासों में आकर ही जंगली जीव उन पर हमला न कर दे. इसके लिए वन विभाग और जिला प्रशासन को मिलकर ही इन वन्यजीवों के लिए कोई सुरक्षित जोन बनाना होगा ताकि उनका आवागमन आबादी क्षेत्रों की ओर ना हो पाए.