भरतपुर भी बनेगा स्मार्ट सिटी, CM गहलोत ने दी प्रोजेक्ट को दी हरी झंडी

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में शामिल होते ही शहर के विकास के लिए विभिन्न योजनाओं में केंद्र की ओर से पहले साल 200 करोड़ रुपए और उसके बाद हर साल 100-100 करोड़ रुपए का बजट मिलेगा.

भरतपुर भी बनेगा स्मार्ट सिटी, CM गहलोत ने दी प्रोजेक्ट को दी हरी झंडी
स्मार्ट सिटी मिशन में 100 शहरों को पहले से ही शामिल किया जा चुका है.

देवेंद्र सिंह/भरतपुर: भरतपुर भी स्मार्ट सिटी बनेगा. सीएम अशोक गहलोत ने शुक्रवार देर रात नगरीय निकाय अधिकारियों के साथ हुई वीडियो कांफ्रेंसिंग में अपनी ओर से हरी झंडी दे दी. उन्होंने नगरीय विकास विभाग के अधिकारियों को इसके लिए आवश्यक कार्यवाही जल्दी करने के निर्देश भी दिए.

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में शामिल होते ही भरतपुर शहर के विकास के लिए विभिन्न योजनाओं में केंद्र सरकार की ओर से पहले साल 200 करोड़ रुपए और उसके बाद हर साल 100-100 करोड़ रुपए का बजट मिलेगा. इस राशि से शहर के लोगों को 24 घंटे बिजली पानी, हाई स्पीड इंटरनेट, वाईफाई, बेहतर साफ-सफाई के साथ ही थीम पार्क जैसी वर्ल्ड क्लास सुविधाएं मिल सकेंगी. साथ ही राज्य सरकार भी इन प्रोजेक्टों के लिए आर्थिक सहायता देती है. स्मार्ट सिटी मिशन में केंद्र सरकार ने 100 शहरों को पहले से ही शामिल किया हुआ है.

भरतपुर को स्मार्ट सिटी (Smart City) प्रोजेक्ट में शामिल कराने के लिए सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) की ओर से हरी झंडी मिल गई है. अभी प्रदेश के संभाग मुख्यालय वाले शहर जयपुर, उदयपुर, कोटा, अजमेर और जोधपुर ही स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में शामिल हैं इसलिए राज्य सरकार अब संभाग मुख्यालय वाला शहर होने के आधार पर भरतपुर को भी इसमें शामिल कराना चाहती है. हाल ही आवास एवं शहरी मंत्रालय की ओऱ से जारी की गई स्वच्छता रैंकिंग में भरतपुर लगातार 2-3 साल से बेहतर प्रदर्शन कर रहा है.

वहीं, नगर निगम कमिश्नर नीलिमा तक्षक ने कहा कि शहर करीब 56 वर्ग किमी में फैला है. न्यूनतम 15 प्रतिशत क्षेत्र शिक्षण संस्थान के लिए निर्धारित हो. सवा लाख की आबादी पर एक कॉलेज होना चाहिए. हमारे यहां दो बडे़ सरकारी कॉलेज हैं. विश्वविद्यालय, मेडिकल कॉलेज, पैरामेडिकल कॉलेज, इंजीनियरिंग कॉलेज भी हैं. बिजली की सप्लाई तो 24 घंटे हैं. लेकिन, पानी की उपलब्धता 24 घंटे के लिए बढ़ानी होगी.

कमिश्नर ने कहा कि सड़कों की क्वालिटी को लेकर काम करना होगा. एम्बुलेंस आधे घंटे में कहीं भी पहुंच सके. इसके लिए कनेक्टिविटी भी ठीक है. आधुनिक संसाधनयुक्त हॉस्पिटल भी हैं. हाई स्पीड इंटरनेट के लिए मोबाइल कंपनियों का पर्याप्त नेटवर्क है. सीसीटीवी (CCTV) से शहर की निगरानी के लिए पुलिस का अभय कमांड सेंटर पहले से ही कार्यरत है.

स्मार्ट सिटी में मिलेंगी यह सुविधाएं:
हर नागरिक को सस्ते दाम में घर मिल सकेंगे. 24 घंटे बिजली-पानी की व्यवस्था होगी. रिहायशी इलाके में तेज कनेक्टिविटी वाला इंटरनेट नेटवर्क मिलेगा. हेरिटेज, टूरिस्ट स्पॉट और हेरिटेज वॉक विकसित होगा. हेरिटेज कॉरिडोर और ग्रीन कॉरिडोर बनेगा. स्मार्ट रोड लाइटनिंग सिस्टम होगा.

बर्ड्स थीम पार्क विकसित होंगे. साइंस एंड टेक्नोलॉजी पार्क विकसित होंगे. पुरा महत्व के धार्मिक स्थलों एवं जल स्रोतों का पुनरुद्धार होगा. स्मार्ट बायो डिग्रेडेवल टॉयलेट, एलिवेटेड रोड, शहर में प्रवेश और निकास स्थलों पर स्मार्ट लाइट वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम, केबल एवं अन्य की इंटरनल डक्टिंग. प्लेनेटोरियम, हेरिटेज चौराहा और नगर निगम गेस्ट हाउस बनेगा.