महंगाई को लेकर CM गहलोत का केंद्र पर हमला, कहा-ये आम आदमी के साथ विश्वासघात है

सीएम ने कहा, 'जब किसी राज्य में चुनाव होते हैं तो केंद्र सरकार डीजल, पेट्रोल के दामों को स्थिर कर देती है. लेकिन चुनाव खत्म होते ही पुन: दाम बढ़ा देती है.'  

महंगाई को लेकर CM गहलोत का केंद्र पर हमला, कहा-ये आम आदमी के साथ विश्वासघात है
महंगाई को लेकर CM गहलोत का मोगी सरकार पर निशाना साधा है. (फाइल फोटो)

जयपुर: देश में बढ़ती महंगाई को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. सीएम अशोक गहलोत ने ट्वीट कर लिखा, 'कोरोना महामारी के दौर में केंद्र सरकार द्वारा डीजल, पेट्रोल और रसोई गैस के दामों में बढ़ोत्तरी करना आम आदमी के साथ विश्वासघात है.'

उन्होंने कहा, 'यूपीए सरकार के दौरान अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें 120 डॉलर प्रति बैरल थीं. लेकिन पेट्रोल, डीजल के दाम 70 रुपए प्रति लीटर थे. मोदी सरकार के दौर में अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत 50 डॉलर प्रति बैरल से भी कम पहुंच गई है. लेकिन मोदी सरकार डीजल, पेट्रोल के दाम लगातार बढ़ा रही ही है.'

सीएम ने कहा, 'जब किसी राज्य में चुनाव होते हैं तो केंद्र सरकार डीजल, पेट्रोल के दामों को स्थिर कर देती है. लेकिन चुनाव खत्म होते ही पुन: दाम बढ़ा देती है. कल रसोई गैस के दामों में 50 रुपए की बढ़ोत्तरी कर मोदी सरकार ने आमजन का बजट बिगाड़ दिया है.' 

मुख्यमंत्री ने आगे कहा, 'केंद्र सरकार द्वारा रसोई गैस सब्सिडी को खत्म कर दी है, जिससे उज्ज्वला योजना में कनेक्शन पाने वाले गरीब लोग भी अपना सिलेंडर रिफिल नहीं करा पा रहे हैं. कोरोना काल में जब सरकार को लोगों की मदद करनी चाहिए थी तब मोदी सरकार लोगों को महंगाई के बोझ तले दबा रही है. केंद्र सरकार को कच्चे तेल की कम कीमत का फायदा आमजन को देने के लिए डीजल, पेट्रोल और रसोई गैस के दाम कम करने चाहिए.'