कोटा: स्वायत्त शासन मंत्री ने ली व्यापारिक और उद्यमी संगठनों की बैठक, कही ये बात

स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ने शहर के एक दर्जन से अधिक व्यापारिक संगठनों के पदाधिकारिययों की बैठक लेकर कोरोना वायरस के कारण लॉक-डाउन के चलते आई समस्याओं को जाना तथा राज्य सरकार के स्तर पर उनका यथाशीघ्र निराकरण करवाने की बात कही.

कोटा: स्वायत्त शासन मंत्री ने ली व्यापारिक और उद्यमी संगठनों की बैठक, कही ये बात
स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल

हिमांशु मित्तल, कोटा: स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ने शहर के एक दर्जन से अधिक व्यापारिक संगठनों के पदाधिकारिययों की बैठक लेकर कोरोना (Coronavirus) के कारण लॉक-डाउन के चलते आई समस्याओं को जाना तथा राज्य सरकार के स्तर पर उनका यथाशीघ्र निराकरण करवाने की बात कही.
 
झालावाड़ रोड़ स्थित पुरूषार्थ भवन में कोरोना के प्रोटोकॉल का पालन करते हुए आयोजित बैठक में उपस्थित व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि कोरोना वायरस के कारण विष्वभर में समस्या उत्पन्न हुई है. जब तक इसका टीका इजाद नहीं किया जा सके हमें इसके बीच प्रोटोकॉल का पालन करते हुए पुनः जीवन चर्या को पटरी पर लाना होगा. उन्होंने व्यापारिक संगठनों को आव्हान किया कि वे केवल सरकार की मदद पर निर्भर नहीं रहे और ना ही किसी तरह की हतासा आने दें. सुदृढ़ता से देश की मजबूती के लिए नवसंचार के साथ कार्य करें जिससे आत्मनिर्भर हो सकें. राज्य सरकार के स्तर पर निराकरण की जा सकने वाली समस्याओं को समय पर निराकरण किया जायेगा जिससे आधारभूत विकास को गति दी जा सके.

लॉक डाउन के कारण प्रत्येक वर्ग प्रभावित हुआ है किसान, व्यापारी, श्रमिक, उद्यमी के कार्य एक दूसरे से जुडे हुए है. प्रदेश के विकास एवं आम नागरिकों को राहत के लिए सभी का समन्वित प्रयास आवश्यक है. कोटा में कोचिंग का पुनः स्थापित होना आवश्यक है इससे बड़ी संख्यां में लोग जुडे हुए हैं. लाखों लोगों को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिला हुआ है. हमे मिलकर इस तरह के प्रयास करने होगें कि कोचिंग विद्यार्थियों के अभिभावाकों को सुरक्षा व कोरोना से बचाव का विश्वास हो सके. उन्होंने होस्टलों में सोशल डिस्टेसिंग की पालना करने, कोचिंग एरिया को एक विशेष जोन में बनाकर वहां आम नागरिकों की अनावष्यक आवाजाही बन्द करने व पढाई का नया मॉडल तैयार करने का सुझाव दिया. 

बिजली के बिलों की समस्या का निराकरण करने के लिए राज्य स्तर अध्ययन किया जा रहा है जिससे सभी नागरिकों की समस्या दूर की जा सके. उन्होंने निर्माण उद्योग, होटल, खनन, निर्माण उद्योग, कोटा स्टोन, रीयल स्टेट, ऑटो मोबाइल तथा विभिन्न व्यापारिक संगठनों को कोरोना के प्रोटोकॉल की पालना करते हुए कार्य को पूरी गति के साथ शुरू करने का आव्हान किया. उन्होंने कहा कि जीएसटी व केन्द्र सरकार के स्तर के मामलों को पूरी पैरवी के साथ उठाया जायेगा जिससे समस्या का निराकरण कराया जा सके.

इस अवसर पर यूआईटी के पूर्व अध्यक्ष रविन्द्र त्यागी, हाडौती विकास मोर्चा के राजेन्द्र सांखला, उद्यमी गोविन्दराम मित्तल, व्यापार महासंघ के क्रांति जैन, कोचिंग प्रतिनिधि नवीन महेष्वरी, इलैक्ट्रोनिक्स एसोषिएसन के कमलदीपसिंह, दी एसएसआई एसो. के मुकेष गर्ग, होटल एसो, के राजकुमार महेष्वरी, रीयल स्टेट के दीपक राजवंषी, सीड्स एसो. के महेन्द्र जैन ऑटो मोबाइल एसो. के प्रेम भाटिया, सर्राफा एसो. के सुरेन्द्र गोयल एक्सपोर्ट एसो. के अनिल मूंदडा सहित सभी संगठनों के पदाधिकारियों ने समस्याओं की जानकारी देकर लॉक-डाउन की समस्याओं के निराकरण के लिए सुझाव दिये.

 

ये भी पढ़ें: CM गहलोत ने किया सोनिया गांधी के 'स्पीक अप अभियान' का समर्थन, कही ये बातें