जयपुर: CAA को लेकर BJP सजग, कहा- विपक्ष के विरोध से घबराई नहीं पार्टी

गांगुली ने बताया कि विपक्षी पार्टियां इस कानून को लेकर लोगों को बरगला रही हैं. ऐसे में बीजेपी कार्यकर्ता का कर्तव्य है कि वह कानून के प्रावधानों के संबंध में सभी को जानकारी दे.

जयपुर: CAA को लेकर BJP सजग, कहा- विपक्ष के विरोध से घबराई नहीं पार्टी
पार्टी ने जनजागरण के लिए बीजेपी नेताओं और कार्यकर्ताओं को तैयार करना शुरू कर दिया है.

जयपुर: नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Bill) को लेकर बीजेपी (BJP) सजग हो गई है. देश के अलग-अलग हिस्सों में विपक्षी पार्टियों की तरफ़ से हो रहे विरोध के बाद अब बीजेपी ने इस मुद्दे पर जनता के बीच जाने का मन बनाने के साथ ही इस पर अमल भी करना शुरू कर दिया है.

श्यामा प्रसाद मुखर्जी फाउंडेशन की अगुवाई में पार्टी ने जनजागरण के लिए बीजेपी नेताओं और कार्यकर्ताओं को तैयार करना शुरू कर दिया है. इस सिलसिले में फाउंडेशन के निदेशक अनिर्बान गांगुली ने बीजेपी नेताओं से संवाद करते हुए उन्हें ग्रासरूट स्तर पर जाने और जनता से संवाद करने के नुस्खे सिखाए. 

भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने राजस्थान में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर जनजागरण अभियान तेज कर दिया है. एमपी के पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान की प्रबुद्धजनों से मुलाकात के बाद मंगलवार को बीजेपी के प्रदेश मुख्यालय पर सीएए को लेकर कार्यशाला का आयोजन किया गया. श्यामा प्रसाद मुखर्जी फाउंडेशन के निदेशक अनिर्बान गांगुली ने बीजेपी कार्यकर्ताओं को सीएए को लाने का मकसद के साथ ही इसके पीछे पीएम और गृह मंत्री की मंशा के बारे में बताया. 

गांगुली ने बताया कि विपक्षी पार्टियां इस कानून को लेकर लोगों को बरगला रही हैं. ऐसे में बीजेपी कार्यकर्ता का कर्तव्य है कि वह कानून के प्रावधानों के संबंध में सभी को जानकारी दे. कार्यशाला में संगठन महामंत्री चंद्रशेखर सहित अनेक कार्यकर्ता मौजूद थे. कार्यशाला के बाद गांगुली ने कहा कि सीएए को गुमराह करने की कोशिश हो रही है. हम जनजागरण के जरिए लोगों को सीएए का संदर्भ, इसे क्यों बनया गया और यह क्यों बनना चाहिए था, इन सभी बातों को लोगों को बताएंगे.

गांगुली कहते हैं कि विपक्ष के विरोध से बीजेपी में कतई घबराहट नहीं है. उन्होंने कहा कि बीजेपी तो विचारधारा वाली पार्टी रही है और अपने विचार को लोगों के बीच पहुंचाना ही पार्टी का मकसद है. लिहाजा इस काम में जुटने को पार्टी की घबराहट बिल्कुल नहीं समझा जाए.