Baran: प्रसव कराने में हॉस्पिटल की लापरवाही आई सामने, नवजात की हुई मौत

Baran Samacahar:  रात का वक्त होने से डॉ मीणा ने पति की बात को अनसुना कर दिया और मध्य रात्रि बाद नार्मल डिलीवरी के नाम पर नवजात के साथ खींचतान की गई, जिससे बच्चे की जान पर आफत बन आई. 

Baran: प्रसव कराने में हॉस्पिटल की लापरवाही आई सामने, नवजात की हुई मौत
चिकित्सकों की लापरवाही से नवजात की मौत हो गई. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Baran: बारां के जिला चिकित्सालय में प्रसव के दौरान चिकित्सालय द्वारा लापरवाही का मामला सामने आया है. जिससे नवजात की मौत हो गई. दरअसल, 1 फरवरी का जगरोल के कुलदीप सिंह सोलंकी ने अपनी पत्नी को प्रसव के लिए जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया था.

इस दौरान उसने ड्यूटी पर तैनात महिला चिकित्सक रिंकेश मीणा से आग्रह किया कि पूर्व में एक बच्चा है जो सीजेरियन से हुआ है, ऐसे में यह दूसरी डिलीवरी भी सीजेरियन से ही हो. वहीं, रात का वक्त होने से डॉ मीणा ने पति की बात को अनसुना कर दिया और मध्य रात्रि बाद नार्मल डिलीवरी के नाम पर नवजात के साथ खींचतान की गई, जिससे बच्चे की जान पर आफत बन आई. 

इधर, आनन-फानन में ऑपरेशन कर प्रसव करवाया, जिससे नवजात के मरणासन्न हालत में पहुंच गया. वहीं, परिजनों के नाराजगी दर्ज कराने पर जिला चिकित्सालय के शिशु चिकित्सक हरकत में आ गए और डॉ मणि गोयल के परामर्श पर कोटा ले गए. यहां बच्चे ने दम तोड़ दिया.

वहीं, बारां प्रशासन नवजात शिशुओं की अस्पताल में होती मौत के मामलों को गंभीरता से नहीं ले रहा है. ऐसे में लोगो ने लापरवाह चिकित्सकों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की जरूरत की मांग की है.

(इनपुट-राम मेहता)