close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बारां: रमेश मीणा ने विभागीय कार्यों की समीक्षा के लिए की बैठक, दिए यह निर्देश

अधिकारियों ने इस बैठक में जिले के सभी विभाग के अधिकारियों ने जिले में चल रहे विकास कार्यो की प्रगति रिर्पोट पेश की. वहीं प्रभारी मंत्री रमेश मीणा ने अधिकारियों को समय पर कार्य पूरा करने के निर्देश दिए.

बारां: रमेश मीणा ने विभागीय कार्यों की समीक्षा के लिए की बैठक, दिए यह निर्देश
वहीं बैठक भ्रष्टाचार के मामले को लेकर भी जमकर हंगामा हुआ.

राम मेहता/बारां: राजस्थान के बारां जिले के प्रभारी मंत्री व खाद्य, नागरिक अपूर्ति एवं उपभोक्ता मंत्री रमेश चन्द मीणा ने शुक्रवार को जिले में विभागीय कार्यों की समीक्षा की.  यह बैठक मिनी सचिवालय सभागार में आयोजित की गई. बैठक में जिले के प्रभारी सचिव राजेश शर्मा, जिला कलेक्टर ओर पुलिस अधीक्षक के विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे.

वहीं अधिकारियों ने इस बैठक में जिले के सभी विभाग के अधिकारियों ने जिले में चल रहे विकास कार्यो की प्रगति रिर्पोट पेश की. इस दौरान प्रभारी मंत्री रमेश मीणा ने अधिकारियों को समय पर कार्य पूरा करने के निर्देश दिए. साथ ही बरसात, बाढ़ के नुकसान का सर्वे कर शीघ्र सरकार को भेजने के लिए भी आदेश जारी किया. वहीं रमेश मीणा ने जिले में अपराध और अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के लिए पुलिस अधीक्षक को आदेश दिया.

हालांकि इस बैठक में जहां विकास कार्यों की चर्चा हुई वहीं भ्रष्टाचार के मामले को लेकर भी जमकर हंगामा हुआ. खबर के मुताबिक छबड़ा के पुर्व कांग्रेस के विधायक करण सिंह राठौड ने प्रभारी मंत्री से जिला रसद अधिकारी सत्यनारायण अमेटा पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए. उन्होने सत्यनारायण अमेटा पर दुकानों को अटैचमेंट देने के नाम 50-50 हजार वसूलें के तक आरोप लगाये और रसद अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की. 

बैठक के बाद प्रभारी मंत्री का छबड़ा क्षेत्र के आयें कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने घेराव कर रसद अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की. साथ ही रसद विभाग में भष्टाचार का आरोप लगाए और जमकर हंगामा किया. 

छबडा के कांग्रेस के पूर्व विधायक करण सिंह राठौड का कहना है की सरकार हमारी है इसलिए किसी भी अधिकारी द्वारा भ्रष्टाचार किया जाएगा तो उसकी बोरी बिस्तर बांधकर भेज दिया जाएगा. उस अधिकारी को एसीबी में ट्रेप कराया जाएगा. यही नहीं साथ ही पकड़े जाने पर उसे सजा भी मिलेगी.