close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बारां: किसान पिता की मदद के लिए बेटे ने किया रिमोट से चलने वाले ट्रैक्टर का आविष्कार

योगेश नागर बीएससी प्रथम वर्ष का छात्र है. मां शीला नागर गृहणी है, तो पिता रामबाबू नागर खेती करते है. पिता खेती और मजदूरी कर परिवार का पालन करते है

बारां: किसान पिता की मदद के लिए बेटे ने किया रिमोट से चलने वाले ट्रैक्टर का आविष्कार
इस ट्रेक्टर को तैयार करने में 45 से 47 हजार का खर्च आया.

राम मेहता/बारां: मन में कुछ नया करने का जज्बा हो तो आदमी हर मुश्किल को हरा सकता है. ऐसा ही कुछ बमोरीकलां निवासी 19 वर्षीय युवक कर रहा है. बीएससी प्रथम वर्ष का छात्र योगेश नागर ने रिमोट से चलने वाले ट्रैक्टर का आविष्कार कर सबको चैका दिया है. इस आविष्कार के बाद पूरे प्रदेश में इसकी चर्चा होने लगी है. छोटी सी उम्र में इस युवक ने खुद की बुद्धि के बल कई आविष्कार किया है.

आविष्कार की पूरी कहानी बयान करते हुए योगेश नागर ने बताया कि मैं बीएससी प्रथम वर्ष का छात्र है. मां शीला नागर गृहणी है, तो पिता रामबाबू नागर खेती करते है. पिता खेती और मजदूरी कर परिवार का पालन करते है और ट्रैक्टर चलाते है. इस दौरान योगेश के पिता को पेट दर्द रहने लगा. योगेश इस बात से बात परेशान रहने लगा कि अब परिवार का गुजर बसर कैसा होगा. योगेश ने बताया कि पिता की मदद के लिए मन मनाया. एक ऐसा रिमोट तैयार किया की एक जगह बैठ कर ट्रैक्टर से खेत की जुताई कर सके. बिना चालक के ट्रैक्टर चलाकर खेत की जुताई कर सके.

योगेश ने बताया कि इसको तैयार करने के लिए कुछ उपकरण खुद बनाएं और कुछ सामान बाजार से खरीदा. इसके बाद एक ऑटो पैनल तैयार कर मशीन ट्रैक्टर पर लगाई जिससें सिग्नल देकर आज बिना चालक के मैरे पिता ट्रैक्टर से खेती का काम एक जगह बैठ कर सकते हैं. 

योगेश के मुताबिक इसको तैयार करने में 45 से 47 हजार का खर्च आया. घर में पैसों की व्यवस्था नहीं थी लेकिन पिता ने हौसला दिया और मैंने यह अविष्कार कर दिया. योगेश ने बताया एक से डेढ़ किलोमीटर तक रेंज की यह रिमोट काम करता है. दो से पांच किलोमीटर रिमोट से टैक्टर चलानें का अविष्कार मैने किया है. टैक्टर में आग एक कैमरा ओर सेंसर लगें हुए है. वहीं रिमोट में स्क्रीन लगी हुई है जिससें की इससे ऑपरेट किया जा सकें. सेंसर लगा होने के कारण कोई मवेशी वाहन आदि आगं आने पर टैक्टर अपने आप रूक जायेगा.

योगेश ने बताया कि मेरा सपना है कि देश की सेना के लिए कुछ उपकरण और मशीनें तैयार करने प्लान है, लेकिन घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है. योगेश ने कहा कि अगर सरकार मदद करे तो ऐसे कई आविष्कार कर सकता हूं.