close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बारां: 5 करोड़ की लागत से बना स्टेडियम हुआ बदहाल, प्रशासन बेखबर

अगस्त 2015 के द्वितीय पखवाड़े से बारिश का दौर शुरू होने के कारण इसका संचालन बंद कर दिया गया था. उसके बाद से लोग तरणताल शुरू होने का इंतजार कर रहे हैं.

बारां: 5 करोड़ की लागत से बना स्टेडियम हुआ बदहाल, प्रशासन बेखबर
बास्केटबॉल कोर्ट, टेनिस कोर्ट में एक साल से पानी भरा हुआ है.

राम मेहता/बारां: खेल प्रतिभाओं को निखारने के लिए बातें तो बहुत की जाती है, लेकिन प्रतिभाओं को बेहतर अवसर प्रदान करने के नाम पर उदासीनता ही रहती है. यही कारण है कि बारां जिले की बहुत कम प्रतिभाएं ही शिखर तक पहुंच पाती हैं. जब प्रतिभाओं को निखारने के लिए बना तरणताल, बास्केटबॉल, टेनिस कोर्ट स्टेडियम, बदहाल है. पांच करोड़ राशि खर्च करने के बाद भी इसका कोई लाभ नहीं मिल रहा है. 

वहीं बारां जिले में स्तरीय तैराक तैयार करने के लिए करीब एक दशक पूर्व शुरू किए गए प्रयास अब तक धरातल पर नजर नहीं आ रहे हैं. तैराकी के प्रति खेल प्रतिभाओं का रूझान बनाने के लिए जिला मुख्यालय पर तरणताल का निर्माण कराया गया था. लेकिन पानी का पुख्ता बंदोबस्त नहीं होने के कारण तरणताल खुद अपनी हालत पर आंसू बहा रहा है. पूरे परिसर में झाड़-झंखाड़ उग गए हैं. फिल्टर किए हुए साफ पानी की जगह कंजी छाई हुई है. लाइटें टूट गई हैं, धूल-मिट्टी की परतें जम रही है. तरणताल परिसर में टेनिस कोर्ट के समीप उद्यान विकसित करने की योजना थी, लेकिन पानी का टोटा होने से झाड़-झंखाड़ उगे हुए हैं. 

राज्य क्रीड़ा परिषद की ओर से वर्ष 2008-09 में जिला मुख्यालय पर तरणताल बनाने की स्वीकृति दी गई थी. बजट व अन्य स्वीकृति के बाद वर्ष 2010-11 में इसका निर्माण शुरू हुआ तथा मई 2014 में निर्माण पूरा हुआ. करीब एक वर्ष बाद वर्ष 2015 के जून-जुलाई व अगस्त माह के प्रथम पखवाड़े तक (करीब ढाई माह) नो लोस-नो प्रोफिट में इसका संचालन किया गया. अगस्त 2015 के द्वितीय पखवाड़े से बारिश का दौर शुरू होने के कारण इसका संचालन बंद कर दिया गया था. उसके बाद से लोग तरणताल शुरू होने का इंतजार कर रहे हैं.

बारां में तरणताल के पास ही बास्केटबॉल कोर्ट, टेनिस कोर्ट बना दिया गया लेकिन यहां एक साल से पानी भरा हुआ है. पांच करोड़ की लागत से बनाया गया पूरा स्टेडियम बदहाल है. इसका लाभ खिलाडी प्रतिभाओं को इसका लाभ नहीं मिल रहा है. जिला मुख्यालय पर स्टेडियम होने के बाद भी खेल प्रतिभाओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. संघ की ओर से भी राष्ट्रीय स्तर की हॉकी व फुटबॉल प्रतियोगिता कराई जानी थी, लेकिन बदहाल मैदान के अभाव में इसे टालना पड़ा.
 
वहीं इस मामले पर जिला कलेक्टर इन्द्र सिंह राव का कहना है की तरणताल ,बास्केटबॉल कोर्ट ओर टेनिस कोर्ट के लिए पांच करोड की राशि खर्च कर स्टेडियम बना गया लेकिन इसका उपयोग नहीं हो रहा है. इसके लिए एक कमेटी बनाकर काम किया जाएगा ओर पानी निकास सहित परेशानी को लेकर चर्चा की जायेगी. वहीं शीघ्र तरणताल आदि को चालू कराया जाएगा.