close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बाड़मेरः रामकथा, अंधड़, लोहे के खंभों में दौड़ा करंट, चीख पुकार, भगदड़...

राजस्थान के बाड़मेर में प्रवचन के दौरान का कथावाचक का ये वीडियो वायरल हुआ है. जिसमें वे पंडाल में मौजूद लोगों से अपील करते दिख रहे हैं.

बाड़मेरः रामकथा, अंधड़, लोहे के खंभों में दौड़ा करंट, चीख पुकार, भगदड़...
फोटो ANI

जयपुरः राजस्थान के बाड़मेर में रविवार को एक धार्मिक आयोजन के दौरान पंडाल गिरने से 14 श्रद्धालुओं की मौत हो गई, मरने वालों में 3 महिलाएं भी शामिल हैं. इस हादसे में लगभग 50 लोग घायल हुए हैं. देशभर के नेताओं ने इस हादसे पर दुख जताया है. राजस्थान सरकार ने हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को 5-5 लाख रुपये और घायलों को 2-2 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित अनेक नेताओं ने हादसे पर शोक व्यक्त किया है.

रविवार अपरान्ह यह यह हादसा उस समय हुआ जब बालोतरा कस्बे के पास जसोल धाम में एक स्कूल में कथा चल रही थी. तभी अंधड़ और बारिश के बीच पंडाल नीचे श्रद्धालुओं पर आ गिरा. सैंकड़ों श्रद्धालुओं को बाहर निकलने का मौका नहीं मिला व वह नीचे दब गए. बालोतरा सीमावर्ती बाड़मेर जिले का एक कस्बा है.

कथाकार मुरलीधर महाराज कथा कर रहे थे इसी दौरान बारिश और तेज अंधड़ शुरू हो गया. अंधड़ इतना तेज था कि पूरा टेंट हवा में लहराने लगा. कथावाचक ने लोगों को आगाह करते हुए बाहर निकलने को कहा था लेकिन कुछ ही सेकंड में पूरा टेंट नीचे आ गिरा. सैकड़ों श्रद्धालु नीचे दब गए. प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार टेंट के लोहे के खंबों में बिजली का करंट भी दौड़ गया लेकिन स्थानीय लोगों ने जैसे तैसे कर घायलों को निकाला और अस्पताल पहुंचाया.

बालोतरा के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रतन लाल भार्गव ने कहा,' 14 व्यक्तियों की मौत हुई है और लगभग 50 अन्य घायल हुए हैं.' घायलों को विभिन्न अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है. प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि श्री राणी भटियाणी मन्दिर संस्थान जसोल के तत्वाधान में आयोजित यह रामकथा एक स्कूल में चल रही थी. 

मुख्यमंत्री गहलोत ने हादसे पर संवेदना व्यक्त करते हुए जोधपुर के संभागीय आयुक्त बी.एल. कोठारी को घटना की जांच के निर्देश दिए हैं. गहलोत ने हादसे की जानकारी मिलते ही प्रशासन, पुलिस, आपदा प्रबन्धन व चिकित्सा अधिकारियों को राहत व बचाव कार्य तथा उपचार के लिए उचित निर्देश दिए. उन्होंने हादसे में मारे गए लोगों के आश्रितों को पांच- पांच लाख रुपये की सहायता राशि देने के निर्देश दिए हैं. हादसे में घायलों को भी अधिकतम दो लाख रुपये की सहायता राशि दी जाएगी.

यह भी पढ़ें- बाड़मेरः सीमावर्ती इलाको में पाकिस्तानी टिड्डियों का आतंक, प्रशासन चौकस

गहलोत ने कहा कि संकट की इस घड़ी में राज्य सरकार पीड़ितों के साथ है और उनकी हरसंभव मदद की जाएगी. मुख्यमंत्री ने रविवार शाम मुख्यमंत्री कार्यालय में उच्चाधिकारियों के साथ हुई आपात बैठक में जसोल में हुए हादसे के बाद राहत व बचाव कार्यों की समीक्षा की.

प्रधानमंत्री मोदी ने घटना पर खेद जताते हुए मृतकों के परिजनों के प्रति संवेदना जताई है. प्रधानमंत्री कार्यालय के ट्विटर हैंडल के जरिए उन्होंने घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य की प्रार्थना की है.उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट, पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सहित अनेक नेताओं ने भी हादसे पर खेद जताया है. जैसलमेर बाड़मेर लोकसभा क्षेत्र से सांसद व केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने हादसे पर खेद जताया है. चौधरी अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम छोड़कर दिल्ली से जोधपुर आ रहे हैं. वह कल प्रभावित परिवारों से मिलेंगे.

हादसे में मरने वालों में देवीलाल (बालोतरा), सुंदरदेवी निवासी जसोल, जबरसिंह (बालोतरा), केवलदास संत, पेमाराम, चंपालाल निवासी मूंगड़ा, अविनाश व्यास जोधपुर, इंदरसिंह जागसर, सांवलदास जसोल, मालसिंह अजमेर, रमेश कुमार जसोल, नेनूदेवी जसोल, जितेंद्र पारलू व नारंगी पत्नी जोगाराम पारलू है.

ममता बनर्जी ने राजस्थान में 14 व्यक्तियों की मौत पर दुख जताया
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रविवार को राजस्थान के बाड़मेर जिले में एक धार्मिक कार्यक्रम के दौरान पंडाल गिरने से 14 व्यक्तियों की मौत पर दुख व्यक्त किया.बनर्जी ने ट्वीट किया, ‘‘राजस्थान के बाड़मेर में पंडाल गिरने से होने वाली मौतों पर दुखी हूं. शोक संतप्त परिवारों के प्रति मेरी संवेदना. घायलों के जल्द स्वस्थ होने की प्रार्थना करती हूं.’’

बाड़मेर में पंडाल गिरने से लोगों की हुई मौत पर राहुल गांधी ने जताया दुख
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राजस्थान के बाड़मेर जिले में एक धार्मिक कार्यक्रम में पंडाल गिरने से 14 लोगों की हुई मौत पर रविवार को दुख जाहिर किया. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘बाड़मेर के जसोल में रामकथा के दौरान पंडाल गिरने से लोगों की मौत होना घटना दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण है. मैं भगवान से मरने वालों की आत्मा की शांति की प्रार्थना करूंगा. मैं उम्मीद करता हूं कि घायल हुए लोग जल्दी ठीक हो जाएंगे.’’ 

(एजेंसी भाषा से भी)