बाड़मेर: 40 साल कानूनी लड़ाई के बाद बुजुर्ग को मिलेगी अपनी जमीन, जानें पूरा मामला...

84 साल की उम्र में इस शख्स को ना केवल अपनी जमीन की रजिस्ट्री मिली साथ ही उसको इसकी जमीन पर कब्जा भी मिलेगा.

बाड़मेर: 40 साल कानूनी लड़ाई के बाद बुजुर्ग को मिलेगी अपनी जमीन, जानें पूरा मामला...
न्यायालय ने 40 साल बाद बंशीलाल के पक्ष में दिया है.

भूपेश आचार्य/बाड़मेर: अपनी जमीन के लिए बिना किसी वकील के 40 साल तक कोर्ट में लड़ाई लड़ने वाले एक बुजुर्ग के पक्ष में राजस्थान हाईकोर्ट ने बड़ा फैसला दिया है. 84 साल की उम्र में इस शख्स को ना केवल अपनी जमीन की रजिस्ट्री मिली साथ ही उसको इसकी जमीन पर कब्जा भी मिलेगा.

मामला बाड़मेर जिला मुख्यालय का है. 84 साल के बंशीलाल रिखबदास वडेरा ने शहर के पीपली चौक में साल 1981 में 70/23 का भूखंड छगनी देवी ओसवाल से लिया था. तब जमीन की रजिस्ट्री नही हुई थी और बंशीलाल ने जमीन की रकम 40 हजार विक्रेता को दे दी थी. कुछ समय बाद जमीन बेचने वाले ने उन्हें जमीन पर एक कमरे पर कब्जा करने दे दिया लेकिन रजिस्ट्री से मुकर गया. 

वहीं, बंशीलाल मामले को लेकर डीजे कोर्ट बालोतरा पहुंचे. साल 1982 में दर्ज इस मामले पर फैसला अप्रैल 1985 में आया, जिसमे छगनी देवी को बंशीलाल के 40 हजार रुपये ब्याज सहित वापस देने का आदेश दिया गया. फैसले के खिलाफ दोनों पक्षकारों ने राजस्थान उच्च न्यायालय में याचिका लगाई जिसका फैसला न्यायालय ने 40 साल बाद बंशीलाल के पक्ष में दिया है.

मामले में सबसे रोचक बात है वह यह कि 40 साल तक विभिन्न कोर्टो में बंशीलाल ने अपनी पैरवी के लिए कोई वकील नहीं किया. खुद के केस की खुद ही पैरवी की और न्यायालय में अपना पक्ष मजबूती से रखा. राजस्थान उच्च न्यायालय द्वारा अगस्त 2019 को बंशीलाल के पक्ष में फैसला दिए जाने के बाद अपर जिला सेशन न्यायालय संख्या 1 के न्यायाधीश सुशील कुमार जैन ने बीते दिनों जमीन की रजिस्ट्री बंशीलाल वडेरा के नाम करवाई है. साल 1981 में 40 हजार में खरीदी इस जमीन की आज का बाजार मूल्य तकरीबन 3 करोड़ रुपए है.

अड़े रहने और डटे रहने के धेय्य वाक्य पर पिछले 40 सालों से कोर्टो के चक्कर लगा रहे बंशीलाल की मेहनत आखिरकार रंग ले आई. बंशीलाल भगवान के पास जाने से पहले अपनी जमीन पर खुद का मालिकाना हक होते देखना चाहता था और न्याय के मंदिर में उनकी बात को सुन लिया गया. न्यायालय द्वारा करोड़ो की जमीन के इस फैसले के चर्चे अब हर जगह होते नजर आ रहे है.