बाड़मेर के बेटे जसवंत सिंह जसोल का निधन, पूरे जिले में दौड़ी शोक की लहर

पीएम मोदी ने ट्वीट कर जसवंत सिंह के निधन पर शोक जताया और कहा कि जसवंत सिंह जसोल को अलग राजनीतिक के लिए हमेशा जाना जाएगा. 

बाड़मेर के बेटे जसवंत सिंह जसोल का निधन, पूरे जिले में दौड़ी शोक की लहर
खबर मिलने के बाद मारवाड़ सहित राजस्थान बहुत देशभर में शोक की लहर दौड़ गई.

भूपेश आचार्य, बाड़मेर: जिले के बेटे, अटल जी के हनुमान एवं पूर्व विदेश वित्त एवं रक्षा मंत्री रहे जसवंत सिंह जसोल का आज सुबह निधन हो गया, जिसकी खबर मिलने के बाद मारवाड़ सहित राजस्थान बहुत देशभर में शोक की लहर दौड़ गई.

पीएम मोदी ने ट्वीट कर जसवंत सिंह के निधन पर शोक जताया और कहा कि जसवंत सिंह जसोल को अलग राजनीतिक के लिए हमेशा जाना जाएगा. वहीं, बाड़मेर जैसलमेर सांसद और कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने गहरा शोक जताया और कहा कि जसवंत सिंह मेरे राजनीतिक गुरु थे. देश के साथ मेरे लिए व्यक्तिगत अपूरणीय क्षति है. 

यह भी पढ़ें- नहीं रहे अटल जी के हनुमान 'जसवंत सिंह जसोल', कुछ ऐसा रहा राजनीतिक करियर

दरअसल, बीजेपी से बाड़मेर जैसलमेर लोकसभा क्षेत्र से उनका टिकट कट जाने से बगावत कर 2014 में लोकसभा का निर्दलीय चुनाव लड़े और जसवंत सिंह जसोल बीजेपी प्रत्याशी कर्नल सोनाराम चौधरी से हार गए थे और उसके बाद दिल्ली लौटे और निवास पर बाथरूम में पांव फिसलने से उनके सिर में गहरी चोट आने के कारण वे कोमा में चले गए, जिनका दिल्ली के आर्मी अस्पताल में इलाज चल रहा था और आज सुबह जल्दी उन्होंने अंतिम सांस ली. दोपहर बाद विशेष विमान से जसवंत सिंह जसोल की पार्थिव देह को जोधपुर लाया जाएगा, जहां उनके फार्म हाउस पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

जसवंत सिंह के परिवार में पीछे पत्नी शीतल कंवर वह दो बेटे मानवेंद्र सिंह भूपेंद्र सिंह और पुत्रवधू चित्रा सिंह हैं. मानवेंद्र सिंह और चित्रासिंह उनकी राजनीतिक विरासत को आगे बढ़ा रहे हैं.