उदयपुर: रंग-बिरंगे फूलों से सजा फतेह सागर झील का किनारा, बांटे जा रहे मुफ्त पौधे

पर्यावरण संरक्षण और फूलों की विविध प्रजातियों से लोगों को रुबरु कराने के मकसद को लेकर लगाई गई इस प्रदर्शनी में सैलानियों का उत्साह देखते ही बन रहा है. 

उदयपुर: रंग-बिरंगे फूलों से सजा फतेह सागर झील का किनारा, बांटे जा रहे मुफ्त पौधे
फतेह सागर झील की पाल इन दिनों फ्लावर प्रदर्शनी के रंग-बिरंगे अंदाजों से आबाद है.

अविनाश, उदयपुर: झीलों की नगरी उदयपुर की फिजा इन दिनों देशी-विदेशी सैलानियों की बंपर आवक से चहक रही है. इसमें चार चंद लगा रहा फतेह सागर झील के किनारे आयोजित हो रहे रंग-बिरंगे फूलों के फ्लावर शो की महक से गुलजार है.

दरअसल, फतेह सागर झील की पाल पर लगी दस दिवसीय फूलों की प्रदर्शनी न केवल शहरवासियों, बल्कि उनके साथ लेकसिटी में आ रहे पामणों (टूरिस्ट) के लिए एक नए पर्यटन स्थल के रुप में भी आकर्षित कर रही हैं. 
उदयपुर के ऐतिहासिक फतेह सागर झील की पाल इन दिनों फ्लावर प्रदर्शनी के रंग-बिरंगे अंदाजों से आबाद है. नगर विकास प्रन्यास और जिला प्रशासन की ओर से आयोजित हो रही इस 10 दिवसीय फ्लावर शो में न केवल देशी बल्कि सात समंदर पार से आने वाले सैलानी भी खासे रोमांचित हैं. 

पर्यावरण संरक्षण और फूलों की विविध प्रजातियों से लोगों को रुबरु कराने के मकसद को लेकर लगाई गई इस प्रदर्शनी में सैलानियों का उत्साह देखते ही बन रहा है. एक तरफ जहां युवा रंग-बिरंगे फूलों और पेड़ों के साथ सेल्फी लेने में मशगूल हैं तो वहीं यह प्रदर्शनी यहां आने वाले कई लोगों के लिए बॉटनिकल गार्डन की तरह ज्ञान के कई आयामों से रुबरु करा रही हैं.

लोगों को बांटे जा रहे हैं मुफ्त में पौधे
दरअसल, इस फ्लावर शो में जहां भारतीय फूलों की कई प्रजातियां प्रदर्शित की गई हैं, वहीं ठंडे प्रदेशों में होने वाले फूल और पौधे भी आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं. इस शो में करीब 100 से ज्यादा प्रकार के फूल औऱ ऑरनामेंटल प्लान्ट्ंस की प्रजातियां हैं, जिनमें मोटे तौर पर पोनसेटिया, डेहलिया, पेंजी, पेरीगोल्ड औऱ फॉरेल जैसे पौधे हैं. यही नहीं, इस प्रदर्शनी में आने वाले लोगों को मुफ्त में पौधों का वितरण कर पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक किया जा रहा है.