Bank Manager बनकर ठग ने वृद्ध दंपति के Account से निकाल लिए 3 लाख, पुलिस ने धर दबोचा

ऋषिकेश उर्फ फंटूश पंडित को ब्यावर लाने के बाद न्यायालय में पेश किया गया है, जहां से उसे रिमांड पर लिया गया है.

Bank Manager बनकर ठग ने वृद्ध दंपति के Account से निकाल लिए 3 लाख, पुलिस ने धर दबोचा
प्रतीकात्मक तस्वीर.

दिलीप चौहान, ब्यावर: सिटी थाना पुलिस (City Thana Police) ने बैंक के खाता नंबर (Account Number) एवं एटीएम कार्ड (ATM Card) के पिन नंबर पूछकर एक महिला के संयुक्त खाते से ऑनलाइन ठगी (Online Fraud) करने के मामले में एक युवक को गिरफ्तार किया है. पुलिस उसे गुजरात (Gujarat) से दबोच कर ब्यावर (Beawar) लाई है. उसे न्यायालय में पेश किया गया है, जहां से उसे रिमांड पर लेकर पूछताछ की जा रही है.

यह भी पढ़ें - साइबर ठगी: मात्र 200 रुपये का 'लहंगा पड़ा महंगा', लगी एक लाख की चपत, जानें कैसे

 

सिटी थाना पुलिस के एएसआई ने बताया कि गत 11 नवंबर को नेहा कांकाणी (Neha Kankani) पत्नी चन्दन कांकाणी जाति माहेश्वरी निवासी प्रतापनगर, ब्यावर (Beawar) ने एक रिपोर्ट पेश कर बताया कि उसकी सास चंदादेवी और ससुर ओमप्रकाश माहेश्वरी का संयुक्त बैक खाता बैंक ऑफ बड़ौदा मैन ब्रांच ब्यावर में है. उसके पास डाक से नया एटीएम कार्ड प्राप्त हुआ था. उसी दिन अज्ञात व्यक्ति द्वारा मोबाइल से कॉल कर अपने आप को बैंक ऑफ बड़ौदा (Bank of Baroda) का मैनेजर होना बताकर आधार कार्ड (Aadhar Card) और पैन कार्ड (Pan Card) लिंक करवाने के लिए एटीएम कार्ड के नम्बर और ओटीपी नम्बर धोखाधड़ी से प्राप्त कर लिए और उक्त खाते से तीन लाख रुपए निकाल लिये हैं.

यह भी पढ़ें - झालावाड़ में साइबर अपराधियों का बोलबाला! खाते से उड़ाए 80 हजार रुपए

गुजरात में पता चली आरोपी की लोकेशन
पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की तो पता चला कि आरोपी युवक के खाते की डिटेल बैंक ऑफ बड़ौदा शाखा चिनोढ़ वापी जिला वलसाड़ गुजरात में होना पाया गया, जिसका खाताधारक ऋषिकेश उर्फ फंटूश पण्डित पुत्र ओमप्रकाश जाति कुम्हार निवासी गांव रघुनाथपुर होना पाया गया. टीम ने आरोपी के पते और अन्य संभावित ठिकानों पर योजनाबद्ध तरीके से दबीश दी, जिसके बाद ऋषिकेश उर्फ फंटूश गुजरात में पकड़ा गया. घटना के बारे में बारीकी एवं सख्ती से पूछताछ करने पर उसने अपना जुर्म कबूल किया है. 

साथी के साथ लोगों से करते हैं ठगी का काम
ऋषिकेश उर्फ फंटूश पंडित को ब्यावर लाने के बाद न्यायालय में पेश किया गया है, जहां से उसे रिमांड पर लिया गया है. पूछताछ में सामने आया है कि आरोपी ऋषिकेश अपने एक अन्य साथी संजय पण्डित पुत्र त्रिलोचन पण्डित निवासी पिण्डरहॉट पुलिस थाना देवदाड़ जिला गोडडा झारखण्ड मिलकर ऑनलाइन ठगी की वारदातों को अंजाम देते हैं. उक्त आरोपीगण मजदूरी करने के बहाने अलग-अलग शहरों में जाकर निवास करते हैं, वहां पर थोडे दिनों तक ठहरने के बाद आईडी कार्ड बनाकर बैंक मे खाता खुलवाते हैं, उसी खाते में आरोपीगण द्वारा लगातार खाताधारकों से जरिए मोबाइल सम्पर्क कर छलपूर्वक आधार कार्ड और पैन कार्ड लिंक करने के बहाने धोखाधड़ी कर खाताधारक से ओटीपी पूछताछ कर खातों से रकम अपने खातों मे स्थानांतरण करते हैं और उक्त रकम को तुरन्त खाते से निकाल लेते हैं. पुलिस अब एक अन्य आरोपी संजय पंडित की तलाश कर रही है.