उपज बेचान के रजिस्ट्रेशन से पहले किसान जान ले पूरी प्रक्रिया, गलती हुई तो पंजीयन हो जाएगा रद्द

राजस्थान में समर्थन मूल्य पर उपज की खरीद के लिए किसानों से रजिस्ट्रेशन करवाए जा रहे हैं, लेकिन पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन होने से किसानों को परेशानी हो सकती है. 

उपज बेचान के रजिस्ट्रेशन से पहले किसान जान ले पूरी प्रक्रिया, गलती हुई तो पंजीयन हो जाएगा रद्द
राजस्थान में किसान पढे लिखे नहीं होने से उन्हें ऑनलाइन प्रक्रिया समझ नहीं आती है.

जयपुर: राजस्थान में समर्थन मूल्य पर उपज की खरीद के लिए किसानों से रजिस्ट्रेशन (Online Registration) करवाए जा रहे हैं, लेकिन पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन होने से किसानों को परेशानी हो सकती है. इसलिए सरकार ने ईमित्र पर आवेदन की सुविधा उपलब्ध करवाई है.  किसान आवेदन करने से पहले जरूरी दस्तावेज ले जाना ना भूले. इसलिए किसान जान ले कि कौन कौन से दस्तावेज ले जाना आवश्यक है.

ये भी पढ़ें: पाक ने तुर्की को बनाया 'पाप' का नया भागीदार! भारत में आंतक की नई खेप भेजने की तैयारी

जनआधार, बैंक पासबुक जरूरी-
राजस्थान में किसान पढे लिखे नहीं होने से उन्हें ऑनलाइन प्रक्रिया समझ नहीं आती है.  इसलिए राज्य सरकार ने इनके आवेदन के लिए ईमित्रों पर व्यवस्था की है, लेकिन अब किसान ये जरूर जान ले कि किसानों को क्या क्या ले जाना जरूरी है. किसानों को रजिस्ट्रेशन के लिए अपना जनआधार, खसरा गिरदावरी और बैंक पासबुक जरूर लानी होगी. इसके बाद दोनों की कॉपी पंजीयन फार्म के साथ अपलोड करवानी होगी.जो किसान बिना गिरदावरी के अपना पंजीयन करवाएगा, उसका पंजीयन समर्थन मूल्य पर खरीद के लिए मान्य नहीं होगा. सहकारिता रजिस्ट्रार मुक्तानंद अग्रवाल का कहना है कि हमारी पूरी कोशिश है कि अधिक से अधिक किसानों से खरीद कर सके.

दूसरी तहसील में पंजीयन मान्य नहीं
यदि ई-मित्र द्वारा गलत पंजीयन किये जाते या तहसील के बाहर पंजीकरण किये जाते है तो ऐसे ई-मित्रों के खिलाफ कठोर कानूनी कार्यवाही की जाएगी. रजिस्ट्रार सहकारिता मुक्तानन्द अग्रवाल ने बताया कि किसान एक जनआधार कार्ड में अंकित नाम में से जिसके नाम गिरदावरी होगी उसके नाम से एक पंजीयन करवा सकेगा. किसान इस बात का विशेष ध्यान रखे कि जिस तहसील में कृषि भूमि में उसी तहसील के कार्यक्षेत्र वाले खरीद केन्द्र पर उपज बेचान के लिए पंजीकरण करावें. दूसरी तहसील में यदि पंजीकरण कराया जाता है तो पंजीकरण मान्य नही होगा.

आधार का मोबाइल से लिंक जरूरी
किसान पंजीयन कराते समय यह सुनिश्चित कर ले कि पंजीकृत मोबाईल नम्बर, से जनआधार कार्ड से लिंक हो जिससे समय पर तुलाई तारीख की सूचना मिल सके. किसान प्रचलित बैंक खाता संख्या सही दे ताकि ऑनलाइन भुगतान के समय किसी प्रकार की परेशानी किसान को नहीं हो.समस्याओं के समाधान के लिए हेल्प लाइन नम्बर 1800-180-6001 जारी किए गए हैं. किसानों को अपनी उपज बेचने में किसी प्रकार की परेशानी न हो इसके लिए खरीद केन्द्रों पर आवश्यकतानुसार तौल-कांटें लगाये जाएंगे और पर्याप्त मात्रा में बारदाना उपलब्ध कराया जाएगा.

ये भी पढ़ें: जयपुर: नगर निगम चुनाव के लिए कांग्रेस ने जारी किया सकंल्प पत्र, 41 बिंदुओं को दिया स्थान