भामाशाहों के सहयोग से देश में दूसरे पायदान पर पहुंची प्रदेश की शिक्षा: डोटासरा

शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि, भामाशाहों के सहयोग का ही नतीजा है कि, आज प्रदेश की शिक्षा देश में दूसरे पायदान पर है.  

भामाशाहों के सहयोग से देश में दूसरे पायदान पर पहुंची प्रदेश की शिक्षा: डोटासरा
शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने भामाशाहों द्वारा किए गए कार्यों के लिए सभी को धन्यवाद दिया.

जयपुर:  पिछले 25 सालों से हर साल 28 जून को राज्य स्तर पर भामाशाह (Bhamashah) सम्मान समारोह का आयोजन किया जाता रहा है. लेकिन इस साल कोरोना काल के चलते भामासाह सम्मान समारोह आयोजित नहीं हो पाया. हालांकि, प्रदेश की सरकारी स्कूलों की दशा और दिशा सुधारने में सहयोग देने वाले भामाशाहों को निराश नहीं होने दिया गया.

शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने भामाशाह जयंती के अवसर पर ऑनलाइन भामाशाह सम्मान समारोह का आयोजन किया. वीडियो कांफ्रेंसिंग के जलिए प्रथम चरण में 59 औद्योगिक क्षेत्र के भामाशाह से शिक्षा मंत्री रूबरू हुए. इन भामाशाहों ने वित्तीय वर्ष 2019-20 में 101 करोड़ रुपए से अधिक का विभाग को सहयोग किया है.

शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने भामाशाहों द्वारा किए गए कार्यों के लिए सभी को धन्यवाद भी दिया. शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि, भामाशाहों के सहयोग का ही नतीजा है कि, आज प्रदेश की शिक्षा देश में दूसरे पायदान पर है.

इसके साथ ही, स्मार्ट क्लासरूम, वह कंप्यूटर लैब जैसी तकनीकी सुविधाएं राजकीय विद्यालय में उपलब्ध करवाई जा रही है. महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों के माध्यम से विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दी जा रही है.

बता दें कि, कांग्रेस सरकार ने सत्ता में आने के साथ ही राज्य स्तरीय कार्यक्रम के साथ ही, जिला और ब्लॉक स्तर पर भी कार्यक्रम की शुरूआत की, जिसके तहत ब्लॉक स्तर पर भी भामाशाहों का सम्मान किया जाता है. बीते वर्ष बिड़ला ऑडिटोरियम में आयोजित राज्य स्तरीय सम्मान समारोह में 121 भामाशाहों और 52 प्रेरकों का सम्मान किया गया था.