भरतपुर: अब औषधीय पौधे उगा कर बीमारियों का उपचार करेगा आयुर्वेद विभाग

आयुर्वेद विभाग के उपनिदेशक निरंजन सिंह ने बताया कि राज्य सरकार की ओर से करीब एक करोड़ 21 लाख रुपये की लागत से यह वेलनेस सेंटर और योगा केंद्र स्थापित किए जाएंगे.

भरतपुर: अब औषधीय पौधे उगा कर बीमारियों का उपचार करेगा आयुर्वेद विभाग
इन केंद्रों पर आयुर्वेदिक के साथ ही प्राकृतिक चिकित्सा और योग से उपचार किया जाएगा.

देवेंद्र सिंह, भरतपुर: राज्य सरकार की ओर से आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति (Ayurvedic medicine system) को बढ़ावा देने के लिए अब एक और कदम उठाया है. अब राज्य सरकार प्रदेश भर में भरतपुर के पूंछरी का लौठा समेत 14 वेलनेस सेंटर स्थापित करने जा रही है. 

इन केंद्रों पर आयुर्वेदिक के साथ ही प्राकृतिक चिकित्सा और योग से उपचार किया जाएगा. इसके लिए राज्य सरकार ने आयुर्वेद विभाग को आदेश जारी कर दिए हैं. साथ ही वेलनेस सेंटर स्थापित करने के लिए जमीनों की तलाश शुरू कर दी गई है.

यहां-यहां स्थापित होंगे वेलनेस सेंटर
आयुर्वेद विभाग के सहायक निदेशक सतीश तिवारी ने बताया कि राज्य सरकार की ओर से प्रदेश भर में पर्यटन व धार्मिक महत्व के 14 स्थानों पर वेलनेस सेंटर और युवा केंद्र स्थापित किए जा रहे हैं. इनमें से भरतपुर में पूंछरी का लौठा स्थान का चयन किया गया है. प्रदेश में माउंट आबू- सिरोही, खाटू श्याम जी - सीकर, पुष्कर - अजमेर, देशनोक- बीकानेर, घाटा मेहंदीपुर - करौली, आमेर - जयपुर, सरिस्का - अलवर, मंदफिया - चितौड़गढ़, जीण माता - सीकर, नाकोड़ा - बाड़मेर, लोहार्गल - झुंझुनूं, रणकपुर - पाली और नाहरगढ़ - पाली को शामिल किया गया है.

वेलनेस सेंटर परिसर में ही उगाएंगे औषधीय पौधे
आयुर्वेद विभाग के उपनिदेशक निरंजन सिंह ने बताया कि राज्य सरकार की ओर से करीब एक करोड़ 21 लाख रुपये की लागत से यह वेलनेस सेंटर और योगा केंद्र स्थापित किया जाएगा. इस सेंटर पर आयुर्वेदिक, प्राकृतिक चिकित्सा और योग की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी. साथ ही वेलनेस सेंटर परिसर में ही औषधीय पौधों का बगीचा भी विकसित किया जाएगा. इन पौधों का उपचार में उपयोग किया जाएगा.

50 बीघा जमीन में स्थापित होगा केंद्र
सहायक निदेशक संजीव तिवारी ने बताया कि वेलनेस सेंटर के लिए राज्य सरकार के निर्देशानुसार 50 बीघा जमीन की आवश्यकता है. इसके लिए विभाग की ओर से पूंछरी का लौठा में जमीन देख ली गई है लेकिन वहां पर एनजीटी की वजह से निर्माण पर रोक है, इसलिए 10 किमी के रेडियस में भी जमीन की तलाश की जा रही है. जमीन के लिए विभाग की ओर से जिला कलेक्टर को लिख दिया गया है और कलेक्टर की ओर से स्थानीय प्रशासन को निर्देश जारी कर दिए गए हैं. जल्द ही जमीन की स्वीकृति मिलते ही वेलनेस सेंटर निर्माण का कार्य शुरू करा दिया जाएगा.

पूंछरी का लौठा भरतपुर का धार्मिक और पर्यटन स्थल है, जो कि गोवर्धन परिक्रमा मार्ग में आता है. ऐसे में यहां पर वेलनेस सेंटर और योग केंद्र स्थापित होने से पर्यटकों को आयुर्वेदिक, प्राकृतिक व योग चिकित्सा का लाभ मिल सकेगा.