close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भरतपुर: रणथंभौर नेशनल पार्क के बाघ ने फिर किया एक चरवाहे पर हमला, मौत

जब शाम तक चिरंजी लाल गुर्जर वापस नहीं आया तो परिजन उसकी तालाश में निकल गए. जिसके बाद चिरंजी लाल गुर्जर मृत अवस्था में नाले के पास मिला.

भरतपुर: रणथंभौर नेशनल पार्क के बाघ ने फिर किया एक चरवाहे पर हमला, मौत
अनुमान के मुताबिक यह हमला टाइगर T 96 द्वारा किया गया है.

सवाई माधोपुर: रणथंभौर नेशनल पार्क में बाघ ने एक बार फिर एक चरवाहे पर हमला कर दिया है. बाघ द्वारा किए गए हमले में फरिया के रहने वाले चिरंजी लाल गुर्जर की मौत हो गई. खबर के मुताबिक चिरंजी लाल गुर्जर बकरी चराने जंगल की ओर गया था. तभी नाले में छिपे बैठे टाइगर ने चिरंजीलाल पर जानलेवा हमला कर दिया. वहीं, जब शाम तक चिरंजी लाल गुर्जर वापस नहीं आया तो परिजन उसकी तालाश में निकल गए. जिसके बाद चिरंजी लाल गुर्जर मृत अवस्था में नाले के पास मिला.

घटना की सूचना के बाद बहरावण्डा खुर्द चौकी पुलिस मौके पर पहुंची और शव को खंडार अस्पताल पहुंचाया. जहां शव का पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया. बड़ी बात ये है कि घटना की सूचना मिलने के बाद भी रात के लेकर अभी तक वन विभाग का कोई भी अधिकारी मौके पर नही पहुंचा. 

बता दें कि यह मामला रणथंभौर नेशनल पार्क के खंडार रेंज में फरिया गांव का है. वहीं वन विभाग ने को इस बात अंदेशा है कि यह हमला टाइगर T 96 द्वारा किया गया है. गौरलतब है कि हाल ही में रणथंभौर नेशनल पार्क में टी-104 नामक चीते ने फरवरी के बाद से तीन आदमियों को अपना शिकार बनाया था. आठ महीने के टी-104 चीते ने सबसे पहले फरवरी में कुंडेरा रेंज में आने वाले पडली गांव में मुन्नी देवी की हत्या कर दी.

वहीं, टी-104 चीते ने इसके बाद उसने पिछले महीने कैला देवी वन क्षेत्र में रूप सिंह को मार डाला. इसके बाद हाल ही में उसने 11 सितंबर को अपनी झोपड़ी में सो रहे पिंटू माली पर हमला कर उसकी हत्या कर दी थी. इन तमाम घटनाओं के बाद चीता को जयपुर, कोटा, सवाई माधौपुर और करौली में पकड़ने के लिए राज्य में वन विभाग की कई टीमें बनाई गईं. जिसके बाद चीतो को टीम ने पकड़ लिया. 

वहीं, चीते को पकड़ने वाले अधिकारियों को ग्रामीणों के प्रदर्शन का भी सामना करना पड़ा. क्षेत्र में इन किसानों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई थी. साथ ही, रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान के प्रमुख वन संरक्षक मनोज पाराशर ने कहा, 'बाघ को राष्ट्रीय उद्यान के भीड वन क्षेत्र में एक बाड़े में छोड़ा जाएगा'.