धौलपुर: सियासी हत्या का एक जिन्न 23 साल बाद बोतल से आया बाहर

विधायक मलिंगा ने कहा कि अगर बीजेपी के पूर्व विधायक जसवंत सिंह निर्दोष हैं तो वो जांच का सामना करें. मलिंगा ने बताया कि इसके अलावा पूर्व विधायक पर धौलपुर जिले के विभिन्न थानों में करीब आधा दर्जन चोरी के मामले दर्ज हैं.

 धौलपुर: सियासी हत्या का एक जिन्न 23 साल बाद बोतल से आया बाहर
पूर्व विधायक पुलिस रिकॉर्ड में हिस्ट्रीशीटर रहे हैं.

धौलपुर: जिले के बाड़ी विधानसभा क्षेत्र के बीजेपी (BJP) के पूर्व विधायक जसवंत सिंह गुर्जर के ड्राइवर विक्रम उर्फ कालू की हत्या से जुड़ा 23 वर्ष पुराना मामला एक बार फिर से सुर्ख़ियों में आ गया है. मामले को लेकर धौलपुर के एएसजीएम कोर्ट (ASGM Court) में हत्याकांड से जुड़े गवाह रामनिवास पोषवाल की गवाही 13 नवंबर 2019 को होने वाली है. 

हाल ही में बाड़ी विधानसभा क्षेत्र के कांग्रेस के विधायक गिर्राज सिंह मलिंगा ने विधानसभा में विक्रम उर्फ कालू की हत्या की दोबारा जांच और एफआईआर खोलने की मांग उठाई थी, जिसमें राज्य सरकार ने पुनः एफआईआर खोलकर अनुसंधान के आदेश दिए थे, जिसे लेकर जांच शुरू हो चुकी है. उधर जसवंत सिंह गुर्जर ने राजस्थान हाईकोर्ट में खोली गई याचिका को ख़ारिज करने की मांग की है.

क्या है पूरा मामला
प्रकरण में बाड़ी विधायक गिर्राज सिंह मलिंगा ने सर्किट हॉउस में प्रेस वार्ता कर बताया कि बीजेपी के पूर्व विधायक जसवंत सिंह गुर्जर की पत्नी को उसी का ड्राइवर विक्रम सिंह उर्फ़ कालू भगा कर ले गया था. कालू जो कि गोपाल सिंह निवासी भिंडर, जिला उदयपुर राजस्थान का बेटा था, इसे लेकर पूर्व विधायक गुर्जर के मुनीम उमेश राजवंशी ने धौलपुर के निहालगंज थाने में कालू उर्फ़ विक्रम और उसके सगे भाई मानसिंह के खिलाफ चोरी का मामला दर्ज कराया था. पुलिस जांच कर मान सिंह को उदयपुर जिले के भिंडर से गिरफ्तार कर लाई लेकिन कालू का पता नहीं चल सका.

विधायक पर लगाए गंभीर आरोप
विधायक गिर्राज सिंह मलिंगा ने कहा कि इस दौरान कालू को आगरा से जसवंत गुर्जर और उसके सहयोगी पकड़कर ले आए. इस दौरान आरोपियों ने तत्कालीन धौलपुर के नगरपालिका चेयरमैन की चोरी हुई गाड़ी अपहरण में इस्तेमाल किया था. विधायक ने कहा कि जिसका रिकॉर्ड नगरपालिका के रिकॉर्ड में दर्ज है. विधायक मलिंगा ने पूर्व विधायक जसवंत पर गंभीर आरोप लगाते हुए बताया कि आरोपी कालू को ओंडेला रोड स्थित शराब के गोदाम पर ले गए. यहां उसके साथ बेरहमी से मारपीट की गई. फिर मध्य प्रदेश के मुरैना और फिर वापिस धौलपुर जिले के बाड़ी शहर में लाया गया जहां कालू की निर्मम हत्या कर उसे जला दिया गया. मलिंगा ने कहा कालू उर्फ़ विक्रम के भाई मान सिंह ने हाईकोर्ट में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दर्ज कराई थी. इसमें हाईकोर्ट ने निहालगंज थाने में अपहरण का मुकदमा पंजीकृत करने के आदेश पारित किए थे लेकिन तत्कालीन जांच अधिकारी ने मामले में एफआईआर लगा दी लेकिन कालू का पता नहीं चल सका. 

पूर्व विधायक पुलिस रिकॉर्ड में हिस्ट्रीशीटर रहे हैं
विधायक मलिंगा ने कहा कि अगर बीजेपी के पूर्व विधायक जसवंत सिंह निर्दोष हैं तो वो जांच का सामना करें. मलिंगा ने बताया कि इसके अलावा पूर्व विधायक पर धौलपुर जिले के विभिन्न थानों में करीब आधा दर्जन चोरी के मामले दर्ज हैं. साथ ही वो रासुका में बंद रह चुके हैं. इतना ही नहीं, उन्हें जिला बदर भी किया गया है. पूर्व विधायक पुलिस रिकॉर्ड में हिस्ट्रीशीटर रहे हैं.

आपको बता दें पूर्व विधायक जसवंत सिंह गुर्जर ने हाल ही में आगरा जिले में बाड़ी विधायक गिर्राज सिंह मलिंगा पर कक्षा आठ की फर्जी अंक तालिका बनाकर कक्षा 10वीं पास करने का मामला दर्ज कराया था, जिसका आगरा पुलिस कोर्ट में चालान भी पेश कर चुकी है.