भरतपुर: सांभर झील में प्रवासी पक्षियों की मास कैजुअल्टी के बाद घना में हाई अलर्ट जारी

घना के सभी कर्मचारियों को सूचित कर दिया गया है कि क्षेत्र में कहीं भी किसी भी पक्षी की मौत होने पर तुरंत जीपीएस लोकेशन के साथ में रिपोर्ट करेंगे. 

भरतपुर: सांभर झील में प्रवासी पक्षियों की मास कैजुअल्टी के बाद घना में हाई अलर्ट जारी
इस बार घना में पक्षियों की संख्या बीते वर्षों की तुलना में कुछ कम हो सकती है.

देवेंद्र सिंह, भरतपुर: नागौर जिले के सांभर झील में देसी-विदेशी पक्षियों की बड़ी तादाद में मौत के बाद भरतपुर के केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान (Keoladeo National Park) (घना) में भी हाई अलर्ट (High Alert) जारी कर दिया गया है. घना प्रशासन ने जहां अपने सभी कर्मचारियों को सचेत रहने के आदेश जारी किए हैं.

साथ ही पशुपालन विभाग को पत्र लिखकर किसी भी हालात के लिए तैयार रहने के लिए कहा गया है. घना क्षेत्र के अलावा जिले भर के वन क्षेत्र में भी किसी भी तरह से किसी भी पक्षी की मौत होने पर तुरंत सूचना देने के आदेश जारी किए गए हैं. वही घना प्रशासन का मानना है कि सफर में पक्षियों की बड़ी तादाद में मौत से घना आने वाले विदेशी पक्षी अपना रूट बदल सकते हैं. ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि इस बार घना में पक्षियों की संख्या बीते वर्षों की तुलना में कुछ कम हो सकती है.

क्या कहना है अधिकारियों का
डीएफओ मोहित गुप्ता ने बताया सांभर में पक्षियों की मास कैजुअल्टी के बाद घना में भी अलर्ट जारी कर दिया गया है. घना के सभी कर्मचारियों को सूचित कर दिया गया है कि क्षेत्र में कहीं भी किसी भी पक्षी की मौत होने पर तुरंत जीपीएस लोकेशन के साथ में रिपोर्ट करेंगे. घना के सभी क्षेत्रों की जांच कराई जा रही है. साथ ही जिले के अन्य क्षेत्रों में भी पत्र लिखकर सूचित कर दिया गया है कि कहीं भी किसी पक्षी की मौत होने पर तुरंत रिपोर्ट किया जाए ताकि समय रहते घटना की जांच कराई जा सके.

डीएफओ गुप्ता ने बताया कि भरतपुर के पशुपालन विभाग को भी पत्र लिखकर अपनी टीम तैयार रखने के लिए सूचित कर दिया गया है. यदि कहीं भी कोई भी घटना होती है तो पशुपालन विभाग के चिकित्सकों की टीम मौके पर पहुंचकर हालात को संभाल सकें.

केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान में हर साल आते हैं हजारों विदेशी पक्षी
गौरतलब है कि केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान में हर वर्ष करीब 400 विभिन्न प्रजातियों के हजारों देसी विदेशी पक्षी यहां आते हैं. बीते सीजन की बात करें तो जनवरी माह में घना में करीब 56 हजार पक्षी आए थे. डीएफओ मोहित गुप्ता ने अपील की है कि अभी घना में सब कुछ सामान्य है इसलिए किसी पर्यटक को घबराने की आवश्यकता नहीं है. घना प्रशासन हर विपरीत परिस्थिति से निपटने के लिए तैयार है.