Jaipur Greater मेयर निलंबन मामले का Karauli में हुआ विरोध, नेताओं ने बोला हमला

भाजपा जिलाध्यक्ष बृजलाल डिकोलिया ने कहा कि कांग्रेस राज में प्रदेश की जनता त्रस्त है. लगातार अपराध बढ़ रहे हैं. 

Jaipur Greater मेयर निलंबन मामले का Karauli में हुआ विरोध, नेताओं ने बोला हमला
जिलाध्यक्ष ने कहा कि जयपुर ग्रेटर की महापौर का निलंबन सरकार की राजनीतिक द्वेषता को दर्शाता है.

Karauli: जिला भाजपा की ओर से प्रदेश की कांग्रेस सरकार (Congress Government) के खिलाफ काला चिठ्ठा जारी करते हुए कानून व्यवस्था ठप होने के आरोप लगाए गए हैं. वहीं, जयपुर ग्रेटर की महापौर डॉ. सौम्या गुर्जर (Somya Gurjar) के निलंबन की कड़ी शब्दों में निन्दा करते हुए इसे राजनीतिक द्वेषता से की गई कार्रवाई करार दिया है. 

यह भी पढे़ं- Jaipur Greater की Mayor Somya Gurjar का निलंबन, धरने पर उतरे Rajasthan BJP के नेता

भाजपा जिलाध्यक्ष बृजलाल डिकोलिया ने कहा कि कांग्रेस राज में प्रदेश की जनता त्रस्त है. लगातार अपराध बढ़ रहे हैं. चोरी, डकैती, हत्या, बलात्कार की घटनाएं आए दिन हो रही हैं. कानून व्यवस्था ठप हो चुकी है. विकास ठप है और भ्रष्टाचार बढ़ रहा है. बिजली के बढ़ते दामों ने आम आदमी को त्रस्त कर दिया है. सरकार के कुप्रबंधन से प्रदेश में विकास ठप है और जनता परेशान है. 

यह भी पढे़ं- जयपुर ग्रेटर मेयर के निलंबन पर सियासत तेज, BJP ने लगाए दोहरे मापदंड अपनाने के आरोप

जिलाध्यक्ष ने कहा कि जयपुर ग्रेटर की महापौर का निलंबन सरकार की राजनीतिक द्वेषता को दर्शाता है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार द्वारा लोकतंत्र की हत्या कर आमजन के विकास कार्यों में रूकावट पैदा करने का प्रयास है. गहलोत सरकार के अहंकार से कांग्रेस का राजस्थान में पतन शुरू हो चुका है. जिलाध्यक्ष बोले कि भाजपा सरकार द्वारा शुरू की गई भामाशाह स्वास्थ्य योजना, जिसमें मुफ्त इलाज की सुविधा थी कि योजना को कांग्रेस सरकार ने बंद कर दिया. वहीं मोदी सरकार द्वारा मुफ्त उपचार के लिए लाई गई आयुष्मान योजना को भी लागू नहीं किया. आर्थिक रूप से ईडब्ल्यूएस से पिछड़े छात्रों की छात्रवृत्ति को भी बंद कर दिया. 27 लाख बेरोजगार युवा बेरोजगारी भत्ते का इंतजार कर रहे हैं. 

धीरेन्द्र बैंसला ने भी बोला हमला
इस दौरान जिला महामंत्री धीरेन्द्र बैंसला ने भी प्रदेश सरकार पर कुप्रबंधन के आरोप लगाए. कांग्रेस ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में वादा किया था कि बिजली की दरों में वृद्धि नहीं करेंगे लेकिन सरकार आने के बाद दरों में बेतहाशा वृद्धि के साथ स्थाई शुल्क का भी भारी भरकम वजन जनता पर डाल दिया है. भाजपा सरकार द्वारा किसानों को 833 रुपए प्रतिमाह बिजली के बिल में छूट दी थी, जिसे कांग्रेस सरकार ने बंद कर दिया. लगातार महिला अत्याचार बढ़ रहे हैं. 

Reporter- ASHISH CHATURVEDI