close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सवाई माधोपुर में रावण दहन के बाद कवि सम्मेलन का हुआ आयोजन, कई लोगों ने लिया हिस्सा

इस दौरान कवि बुद्धि प्रकाश ने राजस्थानी भाषा मे कविता एंव गीतों की शानदार प्रस्तुति देकर श्रोताओं की जमकर तालियां बटोरी. 

सवाई माधोपुर में रावण दहन के बाद कवि सम्मेलन का हुआ आयोजन, कई लोगों ने लिया हिस्सा
कवि बुद्धि प्रकाश ने राजस्थानी भाषा मे कविता एंव गीतों की शानदार प्रस्तुति दी.

सवाई माधोपुर: नगर परिषद के तत्वावधान में विजयदशमी के पावन पर्व पर रावण दहन के बाद दशहरा मैदान पर विराट कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया. जिसमें देश एंव प्रदेश के अलग अलग क्षेत्रो से आए कवियों ने अपनी कविताओं के माध्यम से श्रोताओं को अभिभूत कर दिया. कवि सम्मेलन का शुभारंभ सांसद सुखबीर सिंह जौनापुरिया ने मां सरस्वती की पूजा अर्चना कर किया. 

इस दौरान सांसद द्वारा कवियों का सम्मान भी किया गया. कवि सम्मेलन की शुरुआत ग्वालियर से आई राणा ज़ेबा द्वारा  सरस्वती वंदना के साथ कि गई. जिसके बाद फरीदाबाद से आए हास्य कवि राजेश खुशदिल ने हास्य कविताओं के मध्यम से श्रोताओं खूब गुदगुदाया और जमकर तालियां बटोरी. 

जिसके बाद कोटा से आए कवि परमानंद दाधिच ने देश भक्ति एंव वीर रस की कविताओं से श्रोताओं में जोश भर दिया. कवि सम्मेलन के दौरान आगरा से आई कवियत्री सलोनी राणा और ग्वालियर से आई राणा ज़ेबा ने श्रंगार रस और प्रेम रस की कविताओं एंव गीतों की एक से बड़कर एक प्रस्तुतियां देकर श्रोताओं का मन मोह लिया और जमकर तालिया बटोरी. कवि सम्मेलन के दौरान मंचासीन अन्य कवियों द्वारा देश प्रेम, वीर रस, पैरोडी, गीत, गजल तथा हास्य कविताओं और वर्तमान राजनीति पर व्यंगात्मक कविताओं की शानदार प्रस्तुतियां देकर श्रोताओं की तालियों के साथ ही जमकर वाह वाही लूटी. 

इस दौरान कवि बुद्धि प्रकाश ने राजस्थानी भाषा मे कविता एंव गीतों की शानदार प्रस्तुति देकर श्रोताओं की जमकर तालियां बटोरी. कवि सम्मेलन में कवियों द्वारा हास्य कविताओं से लेकर गीत गजल, देश प्रेम, वीर रस, श्रंगार रस के साथ ही पैरोडी के माध्यम से श्रोताओं की जमकर तालिया बटोरी और वाहवाही लूटी. इस दौरान देश प्रेम एंव वीर रस के कवियों ने धारा 370 पर पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान को उसकी हैसियत तक दिखा डाली. कवि सम्मेलन का संचालन ताऊ शेखावाटी द्वारा किया गया. कवि सम्मेलन देर रात तक जारी रहा. इस दौरान बड़ी संख्या में श्रोता देर रात तक डटे रहे और कवि सम्मेलन का भरपूर आनंद लिया.