लोकसभा चुनाव 2019: भरतपुर में होगी कांटे की टक्कर, BSP भी दे सकती है मुकाबला

2014 में हुए लोकसभा चुनाव में इस सीट से बीजेपी के बहादुर सिंह कोहली ने जीत हासिल की थी. उन्होंने कांग्रेस के डॉ सुरेश जाटव को 2,45,468 मतों से हराया था. 

लोकसभा चुनाव 2019: भरतपुर में होगी कांटे की टक्कर, BSP भी दे सकती है मुकाबला
2014 में हुए लोकसभा चुनाव में इस सीट से बीजेपी के बहादुर सिंह कोहली जीते थे.

भरतपुर: लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर केंद्र और विपक्ष पूरी तरह से चुनावी मोड में आ गए हैं. लोकसभा चुनावों को लेकर एक ओर जहां केंद्र सत्ता पर काबिज रहने के लिए हर तरह का प्रयास कर रही है तो वहीं विपक्ष द्वारा भी केंद्र को सत्ता से हटाने के लिए पूरी तैयारी की जा रही है. इसी कड़ी में राजस्थान की बात करें तो आपको बता दें, राजस्थान में कुल 25 लोकसभा सीटे हैं. 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में मोदी लहर के चलते बीजेपी को प्रदेश की सभी 25 सीटों पर जीत मिली थी. 

हालांकि, 2018 की शुरूआत में हुए लोकसभा उपचुनाव में कांग्रेस ने अलवर और अजमेर सीट पर वापस अपना कब्जा जमा लिया है. वहीं हाल में संपन्न विधानसभा चुनाव में कांग्रेस 99 सीटों के साथ सत्ता में है, जबकि बीजेपी 73 सीटों के साथ विपक्ष में बैठने को मजबूर है. इसी बीच भरतपुर लोकसभा सीट की बात करें तो आपको बता दें कि प्रदेश का यह क्षेत्र यूपी सीमा से जुड़ता है और इस कारण यहां हमेशा से ही बीएसपी प्रभावी रही है. 

2014 में हुए लोकसभा चुनाव में इस सीट से बीजेपी के बहादुर सिंह कोहली ने जीत हासिल की थी. उन्होंने कांग्रेस के डॉ सुरेश जाटव को 2,45,468 मतों से हराया था. बीजेपी के बहादुर सिंह को 5,79,825 और कांग्रेस के सुरेश जाटव को 3,34,357 वोट मिले थें. 

भरतपुर लोकसभा सीट पर 1957, 1962, 1971, 1980, 1984, 1998, 2009 में कांग्रेस, 1977, 1989 में जनता पार्टी, 1991, 1996, 1999, 2004 और 2014 में बीजेपी द्वारा जीत हासिल की गई. इस लिहाज से इस सीट पर 7 बार कांग्रेस और 5 बार बीजेपी का कब्जा रहा है और मौजूदा वक्त में बीजेपी के बहादुर सिंह यहां से सांसद हैं.

भरतपुर लोकसभा सीट पर पूर्व राजघरानों का अच्छा खासा दबदबा रहा है, लेकिन उस वक्त यह सीट सामान्य थी. इनमें सर्वाधिक 3 बार विश्वेंद्र सिंह, 1 बार उनकी पत्नी दिव्या सिंह चुनाव जीतीं थी. दो बार नटवर सिंह और एक बार कृष्णेंद्र कौर दीपा यहां से सांसद चुनी गईं. कृष्णेन्द्र कौर और नटवर सिंह के पुत्र जगत सिंह बीजेपी से विधायक रह चुके हैं. फिलहाल विश्वेंद्र कांग्रेस में हैं, लेकिन वह दो बार बीजेपी से एक बार जनता दल से सांसद रहें. 

भरतपुर लोकसभा क्षेत्र की बात करें तो यह अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित सीट है. साल 2011 की जनगणना के मुताबिक यहां की जनसंख्या 28,45,269 है. जिसका 81.98 प्रतिशत हिस्सा ग्रामीण और 18.02 प्रतिशत हिस्सा शहर में निवास करता है. वहीं कुल आबादी का 21.95 फीसदी अनुसूचित जाति और 3.19 फीसदी अनुसूचित जनजाति है. 

भरतपुर लोकसभा क्षेत्र में 7 विधानसभा सीटें आती हैं. इसमें कामां, डीग-कुम्हेर, वैर, बयाना-रुपवास, नगर और नदबई और भरतपुर शामिल है.