भरतपुर: घना में बोटिंग करते हुए निहार सकेंगे खूबसूरत पक्षी, शुरू हुई सुविधा

डीएफओ गुप्ता ने ये भी बताया कि पर्यटकों को फिलहाल घना के एन ब्लॉक में नौकायन कराई जा रही है. करीब डेढ़ किलोमीटर अंदर तक यात्रियों को नौका में बैठाकर घना भ्रमण कराया जाता है, जिसके माध्यम से घना में पर्यटकों को ज्यादा से ज्यादा आकर्षित करने का प्रयास किया जा रहा है.

भरतपुर: घना में बोटिंग करते हुए निहार सकेंगे खूबसूरत पक्षी, शुरू हुई सुविधा
पक्षी ज्यादातर साइबेरिया, मध्य एशिया और चाइना से सैकड़ों मील का फासला तय कर यहां पहुंचते हैं.

देवेंद्र सिंह, भरतपुर: केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान (Keoloadev National Park) में पर्यटक पक्षियों की दुनिया का अब बोटिंग (Boating) के साथ लुत्फ उठा सकेंगे. घना में जिला कलेक्टर डॉ. जोगाराम ने फीता काट कर बोटिंग (Boating) का शुभारंभ किया. इस मौके पर उद्यान निदेशक मोहित गुप्ता और एसीएफ अभिषेक शर्मा समेत अन्य अधिकारी मौजूद रहे.

अधिकारियों ने बोटिंग (Boating) एरिया में भ्रमण कर पक्षियों को निहारा. ये पक्षी ज्यादातर साइबेरिया, मध्य एशिया और चाइना से सैकड़ों मील का फासला तय कर यहां पहुंचते हैं.

एक नौका में एक से 4 पर्यटक तक एक साथ घूम सकेंगे. पर्यटकों के लिए बोटिंग (Boating) के लिए तीन बोट तैयार कराई गई हैं. इसके अलावा दो बोट रिजर्व रखी गई हैं. डीएफओ मोहित गुप्ता ने बताया कि एक साथ एक से लेकर चार पर्यटक एक घंटा तक नौकायन कर सकेंगे. नौकायन की परिवहन विभाग और नेवी की ओर से सभी औपचारिकताएं पूरी कर ली गई है. पर्यटकों की सुरक्षा के लिए घना प्रशासन के प्रशिक्षित कर्मचारी हमेशा उनके साथ रहेंगे.

डीएफओ गुप्ता ने ये भी बताया कि पर्यटकों को फिलहाल घना के एन ब्लॉक में नौकायन कराई जा रही है. करीब डेढ़ किलोमीटर अंदर तक यात्रियों को नौका में बैठाकर घना भ्रमण कराया जाता है, जिसके माध्यम से घना में पर्यटकों को ज्यादा से ज्यादा आकर्षित करने का प्रयास किया जा रहा है. इससे पर्यटक काफी नजदीक से पक्षियों और वाइल्डलाइफ को देख सकते हैं.

गौरतलब रहे कि घना में अक्टूबर माह से विंटर सीजन शुरू हो चुका है. उद्यान में धीरे-धीरे पक्षियों की आवाजाही बढ़ने लगी है. इसमें प्रवाक्षी पक्षी अच्छी संख्या में दिखाई देने लगे हैं. वहीं, जैसे-जैसे सर्दी बढ़ेगी, उसी के साथ पक्षियों की संख्या भी बढ़ोतरी होगी.