close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: सहकारिता विभाग ने लिया फैसला, ग्राम सेवा समितियों में होगा ईमित्र का काम

सभी बैंक के प्रबन्ध निदेशको को निर्देश दिए गए हैं कि वह यह सुनिश्चित करें कि सभी सहकारी समितियां आवश्यक आई.टी. संसाधनों से लैस हो जाएं. 

राजस्थान: सहकारिता विभाग ने लिया फैसला, ग्राम सेवा समितियों में होगा ईमित्र का काम
वर्तमान में 1851 ग्राम सेवा सहकारी समितिया ई-मित्र का कार्य कर रही है.

जयपुर: सहकारिता विभाग के सभी ग्राम सेवा समितियों में ईमित्र का काम शुरू होगा. महात्मा गांधी जयंती से सभी समितियों में ईमित्रों का काम शुरू किया जाएगा. प्रदेश की सभी 6500 गा्रम सेवा समितियों पर विशेष आम सभा आयोजित की जाएगी. समिति में इस दिन नये सदस्य बनाये जाएंगे. ऋण आवेदन प्राप्त करने के साथ-साथ ऋण वितरण का भी कार्य किया जाएगा.  

वर्तमान में 1851 ग्राम सेवा सहकारी समितियां ई-मित्र का कार्य कर रही है. अब शेष सभी समितियों को ई-मित्र की सेवाओं से जोड़ा जाएगा, ताकि ई-मित्र के रूप में कार्य कर समितियां सहकारिता की भावना को प्रबल कर सके. आम सभा में ई-मित्र की शुल्क सूची का प्रकाशन, समिति के वार्षिक लेखे प्रस्तुत करना, ऑडिट रिपोर्ट की अनुपालना, नो-ड्यूज प्रमाण पत्र जारी करना, वृक्षारोपण करना और महात्मा गाधी स्वच्छता अभियान को चलाकर सहकारिता की भावना को जन-जन में पहुंचाया जाएगा.

रजिस्ट्रार नीरज के पवन ने बताया की सहकारिता ग्रामीण क्षेत्रों में वंचित काश्तकार, पिछड़े वर्गों, अनुसूचित जाति, जनजाति, मजदूर एवं अल्पसंख्यक वर्गों में सहकारिता आंदोलन की पहुंच बनाने का फैसला लिया गया है. साथ ही, सहकारिता के माध्यम से संचालित विभिन्न योजनाओं देने एवं समितियों के माध्यम से ई-मित्र की सेवाऐं प्रदान करने के उद्देश्य से ग्राम सेवा सहकारी समितियों के मुख्यालयों पर विशेष आमसभा का आयोजन कराये जाने का निर्णय लिया गया है.  

उन्होंने बताया कि इस अभियान के पर्यवेक्षण के लिए राज्य स्तर पर रजिस्ट्रार को अध्यक्ष,प्रबन्ध निदेशक शीर्ष बैंक को सदस्य एवं महाप्रबन्धक को सदस्य सचिव बनाया गया है. खण्डीय स्तर पर अतिरिक्त रजिस्ट्रार को अध्यक्ष,क्षेत्रीय अंकेक्षण अधिकारी को सदस्य और शीर्ष बैंक क्षेत्रीय प्रबन्धक को सदस्य सचिव बनाया गया है. जबकि जिला स्तर पर केन्द्रीय सहकारी बैंक के प्रबन्ध निदेशक अध्यक्ष, उप रजिस्ट्रार व विशेष लेखा परीक्षक को सदस्य एवं सी.सी.बी. के ईओ को सदस्य सचिव बनाया गया है. उन्होंने बताया की मोनेटरिंग के लिए विभाग स्तर से जिला प्रभारियों को नियुक्त की जाने का निर्णय लिया गया है जो अपने-अपने जिलो को न्यूनतम 05 ग्राम सेवा सहकारी समितियों के आयोजन में भाग लेंगे.

सभी बैंक के प्रबन्ध निदेशको को निर्देश दिए गए हैं कि वह यह सुनिश्चित करें कि सभी सहकारी समितियां आवश्यक आई.टी. संसाधनों से लैस हो जाएं. उन्होंने बताया की अपैक्स बैंक प्रतिदिन कितनी पैक्स ई-मित्र बन गये है. इसकी सूचना विभाग को उपलब्ध करायेगा तथा समय-समय पर इस उद्देश्य की पूर्ति हेतु दिशा-निर्देश अपने स्तर से जारी कर समस्त समितियों को ई-मित्र बनाया जाना सुनिश्चित करेंगे.