close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: छात्रसंघ चुनाव में आचार संहिता को लेकर युनिवर्सिटी प्रशासन हुआ सख्त

यूनिवर्सिटी परिसर में अब सिर्फ परिचय पत्र या फिर प्रवेश स्लीप देखने के बाद ही अंदर प्रवेश दिया जा रहा है. वहीं बड़े वाहनों और छात्र नेताओं की भीड़ पर भी पूरी तरह से रोक लगा दी गई है.

राजस्थान: छात्रसंघ चुनाव में आचार संहिता को लेकर युनिवर्सिटी प्रशासन हुआ सख्त
कैम्पस में अब ना तो चुनावी रैली हो सकेगी और ना ही चुनावी सभा.

जयपुर: छात्रसंघ चुनाव 2019 की प्रक्रिया की आज से शुरूआत से साथ ही आचार संहिता की पालना की कवायद भी शुरू कर दी गई है. राजस्थान विश्वविद्यालय ने कल ही आचार संहिता की अधिसूचना जारी की थी और आज यूनिवर्सिटी के गेट पर आचार संहिता की पालना का नजारा भी नजर आया. यूनिवर्सिटी परिसर में अब सिर्फ परिचय पत्र या फिर प्रवेश स्लीप देखने के बाद ही अंदर प्रवेश दिया जा रहा है. वहीं बड़े वाहनों और छात्र नेताओं की भीड़ पर भी पूरी तरह से रोक लगा दी गई है.

27 अगस्त को होने वाले छात्रसंघ चुनाव को लेकर यूनिवर्सिटी प्रशासन ने अपनी सभी तैयारियां पूरी कर ली है. आज जहां मतदाता सूचियों का प्रकाशन कर दिया गया है. इसके साथ ही कैम्पस में आदर्श आचार संहिता भी लागू कर दी गई है. इसके साथ ही कैम्पस में अब ना तो चुनावी रैली हो सकेगी और ना ही चुनावी सभा. इसके साथ ही अब छात्र नेताओं की एक गाड़ी को ही कैम्पस में प्रवेश दिया जाएगा. हालांकि आज पहले दिन राविवि के गेट पर वो सख्ती नजर नहीं आई जिसके दावे किए जा रहे थे.

राजस्थान विश्वविद्यालय के चीफ प्रोक्टर एचएस पलसानिया ने बताया कि आचार संहिता लागू होने के साथ ही अब चुनाव कमेटियां पूरी तरह से सक्रिय हो चुकी हैं. इसके साथ ही कैम्पस में अब बाहरी छात्रों का प्रवेश बंद कर दिया गया है. साथ ही कैम्पस में अब छात्र नेता गुट बनाकर भी नहीं घूम सकेंगे. व्यक्तिगत रूप से अपना चुनावी प्रचार कर सकेंगे.

हालांकि परिचय पत्र वितरण को लेकर विवि प्रशासन में विरोधाभार देखने को मिला. कल जहां कुलपति आरके कोठारी ने 60 फीसदी परिचय पत्र वितरण होने का दावा किया तो वहीं आज चीफ प्रोक्टर एचएस पलसानिया ने बताया की अभी तक महज 15 फीसदी तक ही परिचय पत्रों का वितरण हो पाया है. ऐसे में आने वाले दो दिनों में सभी परिचय पत्र वितरण का लक्ष्य रखा गया है.

बहरहाल, विवि में आज से सख्ती नजर आई, लेकिन परिचय पत्रों के वितरण में जल्दबाजी के चलते भारी खामियां भी देखने को मिली. जहां कई छात्राओं के आईडी कार्ड पर छात्रों की फोटो चस्पा कर दी तो वहीं अधिकतर परिचय पत्रों में नामों में भारी गलतियां सामने आई है.