बाल विवाह के सूली चढ़ रही थी नाबालिग, पुलिस ने ऐन वक्त पर बालिका को किया रेस्क्यू

चाइल्ड लाइन टीम, तहसीलदार सुरेश नारायण एवं एएसआई बाबुद्दीन ने मौके पर पहुंचकर बाल विवाह रुकवाया और बालिका को रेस्क्यू कर लिया. इस दौरान दूल्हा सोनू उसके परिजन एवं दलाल मौके से फरार हो गए. 

बाल विवाह के सूली चढ़ रही थी नाबालिग, पुलिस ने ऐन वक्त पर बालिका को किया रेस्क्यू
चाइल्ड लाइन ने बाल विवाह की सूली चढ़ने से एक और नाबालिग को बचा लिया. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Sawai Madhopur: सवाई माधोपुर जिले में आयोजित एक बाल विवाह को चाइल्ड लाइन टीम ने अथक प्रयास करते हुए रुकवा दिया. दरअसल, चाइल्ड लाइन हेल्पलाइन नंबर 1098 पर एक कॉलर द्वारा एक बालिका (12) के बाल विवाह करने के सूचना दी गयी. सूचना मिलने के साथ ही सवाईमाधोपुर चाइल्ड लाइन टीम हरकत में आयी.

सूचना के साथ ही चाइल्ड लाइन टीम बालिका के बारे में जानकारी जुटाने में जुट गयी. इस दौरान पता चला की बामनवास तहसील के सीतापुरा गांव की एक बालिका का बाल विवाह सोनू के साथ होना तय किया गया हैं. इस बाल विवाह के पीछे एक दलाल नाहर सिंह का नाम सामने आया.

चाइल्ड लाइन को जानकारी मिली कि नाहर सिंह ने बाल विवाह करवाने के लिए बालिका के परिजनों को दो लाख रुपए का लालच दिया और पैसे भी बालिका के माता पिता को दे दिए हैं, जिसपर 5 जून को बालिका का बाल विवाह होना तय हो गया. मामले की पूरी जानकारी जुटाने के बाद चाइल्ड लाइन टीम ने प्रशासन से बाल विवाह रुकवाने के लिए संपर्क किया. जैसे ही प्रशासन के गांव में आने की सूचना मिली तो बालिका के परिजन बालिका को लेकर फरार हो गए.

चाइल्ड लाइन टीम ने जानकारी जुटाते हुए पता लगाया कि बालिका को शादी से पूर्व ही उसके ससुराल पहुंचा दिया गया हैं. ताकि आसानी से बालिका का बाल विवाह कराया जा सके. चाइल्ड लाइन टीम ने तुरंत अलीगढ़ थाना पुलिस से संपर्क कर बाल विवाह होने की सूचना दी. सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची तो परिजन बालिका लेकर वहां से भी फरार हो गए.

इस दौरान सवाई माधोपुर चाइल्ड लाइन टीम पूरी मुस्तैदी के साथ मामले के फॉलोअप में जुटी रही. इसी क्रम में गुरुवार को उसे जानकारी मिली की बालिका के परिजनों पर दलाल नाहर सिंह एवं बालिका के सुसराल वाले जबदस्ती दबाव बनाकर आज ही गुपचुप शादी कराने की तैयारी में है. 

दोनों पक्षों के लोग दूल्हा सोनू स्वामी एवं नाबालिग बालिका को लेकर चौथ का बरवाड़ा थाना क्षेत्र के पॉवडेरा गांव पहुंचकर फेरे डालने की फिराक में है. चाइल्ड लाइन टीम ने तुरंत चौथ का बरवाड़ा एसडीएम सुशीला मीणा से संपर्क कर बाल विवाह रुकवाने के लिए आग्रह किया. दूसरी ओर पुलिस अधीक्षक सुधीर चौाधरी से मोके पर पलिस जाब्ता भेजने की मांग की. 

चाइल्ड लाइन टीम, तहसीलदार सुरेश नारायण एवं एएसआई बाबुद्दीन ने मौके पर पहुंचकर बाल विवाह रुकवाया और बालिका को रेस्क्यू कर लिया. इस दौरान दूल्हा सोनू उसके परिजन एवं दलाल मौके से फरार हो गए. चाइल्ड लाइन टीम द्वारा मामले में आगे कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

(इनपुट-अरविंद सिंह)