close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सवाई माधोपुर: बनास नदी में पानी छोड़ने के कारण टापू बने कई गांव, SDM ने किया दौरा

उपजिला कलेक्टर कर लोगों को सावधानी बरतते हुए लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने की अपील की. 

सवाई माधोपुर: बनास नदी में पानी छोड़ने के कारण टापू बने कई गांव, SDM ने किया दौरा
भारी बारिश के कारण पूरे राजस्थान में नदियों का जलस्तर बढ़ गया है.

सवाई माधोपुर: बीसलपुर बांध के केचमेंट क्षेत्र में लगातार बारिश के चलते बांध में पानी की बंपर आवक हुई, जिसके बाद बांध के 17 गेट खोल दिए गए. बनास नदी में पानी छोड़ने से मलारना डूंगर उपखंड के कई गांव टापू बन गए. साथ ही, गांव के टापू बन जाने के कारण उपखंड प्रशासन हरकत में आ गया. उपजिला कलेक्टर मनोज वर्मा ने बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा किया.

वहीं, उपजिला कलेक्टर कर लोगों को सावधानी बरतते हुए लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने की अपील की. एसडीएम ने नाव में बैठकर कांटडा ढाणी का दौरा किया और प्रभावित लोगों से समझाइश की. एसडीएम ने बताया कि बाढ़ बिलोली कांटडा ढाणी में तीस से ज्यादा परिवार बनास नदी के बीच टापू के पर बसे हुए हैं. बनास नदी में उफान के चलते एसडीएम ने श्यामोली बाढ़ बिलोली और कांच झोपड़ी आदि गांव का दौरा कर लोगों को बनास नदी के आसपास से सुरक्षित स्थानों पर जाने की सलाह दी. 

इस दौरान हल्का पटवारी प्रेम राज गुर्जर गिरदावर राम कल्याण मीणा पुरुषोत्तम गर्ग नीरज शर्मा आदि मौजूद रहे. एसडीएम ने सभी पटवारी गिरदावरों को मुख्यालय पर रहने के लिए पाबंद किया है. बता दें कि भारी बारिश के कारण पूरे राजस्थान में नदियों का जलस्तर बढ़ गया है. जिसके कारण सभी नदियों के गेट खोल दिए गए है. वहीं, बांध के गेट खोलने के कारण प्रदेश के कई संभाग के गांव जलमग्न हो गए हैं. 

वहीं, बाढ़ की स्थिति को देखकर गहलोत सरकार भी पूरी तरह मुस्तैद हैं. जहां कई इलाकों में बाढ़ प्रभावित इलाकों में लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने के लिए आर्मी के जवानों को बुलाया गया हैं वहीं खुद सीएम अशोक गहलोत ने भी बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया. 

आपको बता दें कि लगातार हो रही बारिश और नदियों में बांध से छोड़े जाने वाले पानी से कई जिलों में हालात बिगड़ गए हैं. बारिश और बाढ़ से सबसे ज्यादा कोटा, बांसवाड़ा, झालावाड़, प्रतापगढ़, पाली और धौलपुर में हालात खराब हैं.