close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भरतपुर में पर्यटन मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने जनता की समस्या को लेकर किया जनसुनवाई

पर्यटन मंत्री ने बताया कि राज्य की नई पर्यटन नीति तैयार की जा रही है. इसे जल्द ही लागू किया जाएगा.

भरतपुर में पर्यटन मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने जनता की समस्या को लेकर किया जनसुनवाई
पर्यटन मंत्री ने बताया कि राज्य की नई पर्यटन नीति तैयार की जा रही है.

देवेन्द्र सिंह/भरतपुर: पर्यटन और देवस्थान मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने शनिवार को कुम्हेर के जहांगीरपुर में आयुर्वेद स्वास्थ्य मेले का शुभारम्भ किया, आयुर्वेद प्रदर्शनी का अवलोकन किया ,आयुर्वेद स्वास्थ्य केन्द्र के रिनोवटेड भवन का लोकार्पण किया. साथ ही विश्वेन्द्र सिंह ने लोगों की समस्या को लेकर जनसुनवाई भी की. उन्होंने कहा कि जिले की 3 प्रमुख समस्याओं में से 2 समस्या, सिचाई का पानी और पेयजल के सम्बंध में गत 4 माह में काफी प्रगति हुई है. 89 करोड़ रूपये की सिचाई परियोजनाओं के प्रस्ताव राज्य बजट में शामिल करवाने के लिये मैंने राज्य सरकार को भेजा है. 

साथ ही विश्वेन्द्र सिंह ने कहा कि जल संसाधन मंत्री बीड़ी कल्ला से 2 दिन पहले मुलाकात कर जिले की लम्बित सिचाई ओर पेयजल परियोजनाओं को जल्द पूर्ण करने का आग्रह किया है. डीग कस्बे में 23 जून तक चम्बल का पानी पहुंच जाएगा. कुम्हेर के 63 गावों में चम्बल का पानी जल्द से जल्द पहुंचाने के लिए ठेकेदार और सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित किया है. उन्होंने कहा कि जिले की तीसरी समस्या रोजगार का समाधान आप लोगों के हाथ में है. अगर जनता फैक्ट्री मालिक को बेवजह परेशान नही करें तो जिले में कई उद्योग खुलवा दूंगा. इन नई इकाइयों में स्थानीय युवाओं को रोजगार दिलवाया जाएगा. 

पर्यटन मंत्री ने बताया कि राज्य की नई पर्यटन नीति तैयार की जा रही है. इसे जल्द ही लागू किया जायेगा. भरतपुर, अलवर, धौलपुर और करौली के पर्यटन स्थलों के विकास पर विशेष जोर दिया जाएगा क्योंकि इन जिलो के काफी पर्यटन स्थल अभी तक उपेक्षा का शिकार रहे हैं. लुपिन के कार्यकारी निदेशक सीताराम गुप्ता की मांग पर उन्होंने भरतपुर शहर में हैरिटेज कॉरिडोर बनाने का प्रस्ताव आगे बढाने का आश्वासन दिया. इस प्रस्ताव के अनुसार पुराने बिजलीघर पर महाराजा किशन सिंह स्मारक, महारानी श्री जया कॉलेज से सूरजमल चैक से पुराने बिजलीघर तक भरतपुर के महाराजाओं और गौरवशाली इतिहास से सम्बन्धित स्मारक बनाने की मांग है. उल्लेखनीय है कि महाराजा किशन सिंह के शासनकाल में भरतपुर शहर में विद्युत आपूर्ति शुरू हुई थी और पुराने बिजलीघर का निर्माण हुआ था.

वहीं विश्वेन्द्र सिंह ने ने बताया कि राज्य की नई देवस्थान नीति तैयार की जा रही है. देवस्थान विभाग की अरबों रूपये कीमत की भूमि पर अवैध कब्जे हैं और इसकी सम्पत्ति का किराया आज की बाजार दर के मुकाबले बहुत कम हैं. लक्ष्मण मन्दिर और गंगा मंदिर की 493 दुकानों का किराया 25 रूपये से 60 रूपए के बीच है. अगर किराया युक्तिसंगत हो और अवैध कब्जे हट जाये तो देवस्थान विभाग के मन्दिरों का आराम से जीर्णोद्धार हो सकता है. 

आगामी राज्य बजट की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव के पार्टी घोषणा पत्र को अक्षरशः लागू करेंगे. बजट में किसान और युवा का पूरा ध्यान रखेंगे. केन्द्रीय सहायता देने में राज्य के साथ पक्षपात किया जा रहा है लेकिन आमजन साथ रहे तो हर समस्या का मुकाबला कर लेंगे.