close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भीलवाड़ा: शौहर ने फोन पर दिया ट्रिपल तलाक, पुलिस ने दर्ज किया मामला

जिले के शाहपुरा निवासी शौहर ने अपनी पत्नी को फोन पर एक बार में तीन तलाक दे दिया. इसके बाद पत्नी ने शाहपुरा थाने में शौहर के खिलाफ तहरीर दी है.

भीलवाड़ा: शौहर ने फोन पर दिया ट्रिपल तलाक, पुलिस ने दर्ज किया मामला
पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की है. (प्रतीकात्मक फोटो)

भीलवाड़ा: देश के संविधान ने तीन तलाक पर पूरी तरह रोक लगा दी है. इसके खिलाफ संसद से कानून पास होने के बाद भी इस तरह के मामले नहीं रुक रहे हैं. राजस्थान के भीलवाड़ा जिले में इस तरह का मामला सामने आया है. 

जिले के शाहपुरा निवासी शौहर ने अपनी पत्नी को फोन पर एक बार में तीन तलाक दे दिया. जिसके बाद पत्नी ने शाहपुरा थाने में शौहर के खिलाफ तहरीर दी है.

पीड़िता ने अपनी तहरीर पर आरोप लगाया है कि पति ने तलाक देने से पहले 50 हजार रुपये देहज की भी मांग की थी. जानकारी के अनुसार थाना क्षेत्र के ढिकोला गांव में रहने वाली नीलू पुत्री सकुर मेवाती की शादी 12 साल पहले नाबालिग अवस्था मे शोएब के साथ हुई थी, वर्ष 2010 में बालिग होने के बाद वह सुसराल जाने लगी. 

लाइव टीवी देखें-:

नीलू का आरोप है कि शादी के बाद दहेज की मांग को लेकर पति अक्सर मारपीट करने लगे. एक साल पहले मारपीट और दहेज प्रताड़ना से तंग आकर नीलू ने अपने 8 साल के बेटे ईशात को साथ लेकर घर छोड़ दिया और पीहर में ही रहने लगी. इस दौरान पीड़ित ने शाहपुरा थाने में दहेज प्रताड़ना का मुकदमा दर्ज करवाया, उसके बाद मोतबिरो की मौजूदगी में दोनों पक्षो में समझौता हो गया, लेकिन समझौते के मुताबिक शोएब पत्नी नीलू को साथ नही ले गया और हर बार साथ ले जाने की बात को टालता रहा गत माह 27 जुलाई को जब परिजनों ने नीलू को साथ ले जाने को कहा. 

पीड़ित ने थाने में आज 29 अगस्त को दी रिपोर्ट में आरोप लगाया है शोएब ने 50 हजार नही देने की स्थिति में फोन पर 27 जुलाई को तीन बार तलाक बोल कर संबंध तोड़ लिए. पीड़िता के अनुसार उसके पति ने 21 अगस्त को मंदसौर की एक युवती से प्रेम विवाह भी कर लिया है. पीड़ित नीलू ने इस मामले की लिखित रिपोर्ट शाहपुरा थाने में दी, जिसके बाद पुलिस ने फिलहाल आईपीसी की धारा 498 (ए) व 406 में मामला दर्ज कर जांच शुरू की है. 

जांच अधिकारी का कहना है कि मामले में अग्रिम अनुसंधान जारी है. अनुसंधान के बाद हाल ही में कानून में बदलाव में तहत धाराएं जोड़ी जाएगी.