close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भीलवाड़ा: मेडिकल कॉलेज में रैंगिग से सहमी छात्राएं, परिजनों ने वार्डन पर उठाया सवाल

पड़ताल में सामने आया कि सीनियर छात्राएं पहले जूनियर्स के कमरे का दरवाजा खटखटाती हैं और ऊपर के कमरे में मीटिंग करने के बहाने बुलाती हैं. 

भीलवाड़ा: मेडिकल कॉलेज में रैंगिग से सहमी छात्राएं, परिजनों ने वार्डन पर उठाया सवाल
यह सिलसिला रात आठ बजे से शुरू होता है.

दिलशाद खान/भीलवाड़ा: विजया राजे सिंधिया मेडिकल कॉलेज में तीन रात से जूनियर छात्राओं की नींद उड़ी हुई है. जी मीडिया की पड़ताल में सामने आया है कि सेकेंड इयर की कुछ छात्राएं फर्स्ट इयर की छात्राओं की रैगिंग ले रही हैं. रैगिंग भी इस कदर प्रताड़ित करने वाली है कि पीड़ित छात्राएं ठीक से सो भी नहीं पा रही हैं. वे दिन में भी सीनियर छात्राओं को देखकर सहम जाती हैं.

पड़ताल में सामने आया कि सीनियर छात्राएं पहले जूनियर्स के कमरे का दरवाजा खटखटाती हैं और ऊपर के कमरे में मीटिंग करने के बहाने बुलाती हैं. वहीं कमरे के दरवाजे पर एक छात्रा बैठी रहती है जो कक्ष खोलकर भीतर भेजती है. भीतर जाने पर वहां पहले से मौजूद छात्रा जूनियर को डांटती है कि बिना पूछे अंदर आने की हिम्मत कैसे हुई. कॉलेज से निकालने तक की धमकी देती है. मोबाइल पर फिल्मी धुन बजवाकर नाचने-गाने को कहती है.  इनकार करने पर सजा के तौर पर रात 12 बजे तक हॉल के भीतर ही खड़ा रखा जाता है. यह सिलसिला रात आठ बजे से शुरू होता है. जूनियर्स को मोबाइल लाने से मना किया जाता है. मोबाइल हो तो बाहर रखवा लिया जाता है.

घटनाक्रम की जानकारी मिली तो अभिभावकों अपनी बेटियों की सुरक्षा की चिंता होने लगी. अभिभावक का कहना है कि हॉस्टल वार्डन की कार्यशैली ठीक नहीं है. वार्डन से कई बार मोबाइल नम्बर मांग चुके हैं, लेकिन नहीं देती है. कॉलेज के मुख्य गेट पर तैनात गार्ड्स का व्यवहार ठीक नहीं है. अभिभावकों ने वायरल हुए वीडियो में नजर आ रही सीनियर छात्राओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है. घटना का वीडियो वायरल होने के बाद बुधवार को कॉलेज प्रशासन ने गंभीरता दिखाते हुए तीन सदस्यीय जांच कमेटी गठित कर दो दिन में जांच रिपोर्ट मांगी है. कॉलेज में रैगिंग का यह पहला मामला सामने आया है.

आपको बता दें डूंगरपुर कॉलेज से स्थानांतरित होकर आई जयपुर निवासी फर्स्ट इयर की एक छात्रा व अन्य जूनियर छात्राओं हॉस्टल में सेकेंड इयर की कुछ छात्राओं ने रैगिंग कर वीडियो बनाया. वायरल हुआ वीडियो एक छात्रा के परिजन को मिलने पर उन्होंने बुधवार सुबह प्राचार्य डॉ. राजन नंदा को लिखित में शिकायत की. शिकायत मिलने पर कॉलेज प्रशासन ने मामले की जांच के लिए कमेटी गठित की. कमेटी में मुख्य वार्डन के साथ ही लड़कों व लड़कियों के हॉस्टल के वार्डन को शामिल किया गया है. कमेटी गुरुवार को मामले की रिपोर्ट पेश करेगी.

वायरल हुए वीडियो में सीनियर छात्राएं जूनियर्स को झुककर एक बार नहीं दस बार सलाम करने की हिदायत दे रही है. सीनियर के बुलाने पर भी समय पर आने की बात भी कह रही है. प्राचार्य डॉ. नन्दा ने बताया कि जो वीडियो वायरल हुआ, वह साफ नहीं है. यह भी तय नहीं हो पा रहा है कि छात्रा कौन है, फिर भी जांच रिपोर्ट आने के बाद खुलासा होगा कि आखिर छात्रा के साथ क्या हुआ था.