close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में दिव्यांगों के सम्मान में बड़ा फैसला, सोसायटी पंजीकरण से हटेगा 'विकलांग' शब्द

सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना को कहना है कि "दिव्यांगजनों का मान सम्मान समाज में बनाए रखने के लिए विभाग ने ये फैसला लिया है. v

राजस्थान में दिव्यांगों के सम्मान में बड़ा फैसला, सोसायटी पंजीकरण से हटेगा 'विकलांग' शब्द
प्रतीकात्मक तस्वीर

जयपुर: सोसायटी पंजीकरण में विकलांगों का मान बढ़ाने के लिए शब्द को हटाया गया है. सोसायटी पंजीकरण अधिनियम 1958 के तहत ''विकलांग'' शब्द के नाम से पंजीकृत गैर लाभकारी संस्थाओं में अब इस नाम का प्रयोग नहीं किया जाएगा. इससे जुड़ी सभी संस्थाओं को ''विकलांग'' शब्द के स्थान पर ''दिव्यांग'' शब्द का ही प्रयोग करना होगा. 

सहकारिता रजिस्ट्रार नीरज के पवन ने इस संबंध में सभी संस्था रजिस्ट्रार और उप रजिस्ट्रार को निर्देश दिए हैं कि सोसायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट के तहत पंजीकृत जिन संस्थाओं में ''विकलांग'' शब्द का प्रयोग हो रहा है उन्हें संशोधित कर इसकी जगह ‘दिव्यांग’ से प्रतिस्थापित किया जाए.

सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना को कहना है कि "दिव्यांगजनों का मान सम्मान समाज में बनाए रखने के लिए विभाग ने ये फैसला लिया है. उनका कहना है कि वैसे तो दोनों शब्दों का मतलब एक ही होता है, लेकिन दिव्यांगजनो की भावनाओं को देखते हुए सरकार ने सभी सोयायटियों में विकलांग शब्द हटवाने के आदेश दिए है."
 
विभाग ने ये भी निर्देश दिए कि भविष्य में पंजीकृत होने वाली ऐसी संस्थाओं के नाम में ''दिव्यांग'' शब्द का ही प्रयोग कर संस्था का पंजीकरण करें. सोसायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट, 1958 के तहत धार्मिक प्रयोजनों को छोड़कर अन्य सामाजिक कार्यों के लिए गैर लाभकारी संस्थाओं का पंजीयन किया जाता है. आमजन को सहूलियत देने के लिये ऐसी संस्थाओं के पंजीयन के लिए ऑनलाइन प्रक्रिया अपनाई जा रही है.

जाहिर है समय समय पर दिव्यांग को संबल प्रदान करने के लिए सरकारे इस तरह के फैसले लेती रही है ताकि दिव्य शक्ति की मान सम्मान समाज में इसी तरह से बना रहे.